निवेदन।

*हम अपने पाठकों का हर्षित हृदय से सूचित कर रहे हैं कि शनिवार दिनांक 14 जुलाई, रथयात्रा के दिन हमारे ब्लॉग का तीसरा वर्ष पूर्ण हो रहा है, साथ ही यह ब्लौग अपने 11 शतक भी पूरे कर रहा है, इस अवसर पर आपसे
आपकी पसंद की एक रचना की गुज़ारिश है, रचना किसी भी विषय पर हो सकती है, जिससे हमारा तीसरी वर्ष यादगार वर्ष बन जाएगा* रचना दिनांक 13 जुलाई 2018 सुबह 10 बजे तक हमे इस ब्लौग के संपर्क प्रारूप द्वारा भेजे।
सादर


समर्थक

बुधवार, 23 नवंबर 2016

495.......तालियाँ एक हाथ से बज रही होती हैं उसका शोर सब कुछ बोल रहा होता है

सादर अभिवादन..
पाँच कदम और
फिर चलेगा निन्यानबे का चक्कर

आज की चयनित रचनाएँ.....




शाम का मंज़र कितना सुहाना होता न , 
मन मोह लेता है 
सारे पंछी अपने 
घरोंदों की तरफ 
उड़ान भरते हैं , 

पैसों से हैं, बनते बिगड़ते
रिश्ते ऐसे क्यों मैं निभाऊँ

हैं झूठी तारीफ के भूखे
अब इनको मैं क्या समझाऊँ 


घर का दरवाज़ा तो चौड़ा है बहुत
दिल का दरवाज़ा अगरचे तंग है

आइना काहे उसे दिखलाए हैं
उड़ गया चेहरे का देखो रंग है

जरा सोचो तो आखिर वे हवाएं
जो मौसम के अनुसार
बदल देती हैं अपनी दिशाएं पूर्णतया
ला सकती हैं मानसून


आज का शीर्षक...
कानों 
में अपने 
अपने ही 
हाथ लगाये 
अपना 
ही कहा 
अंधेरे में 
ढूँढने की
खातिर 
डोल रहा 
होता है 
............................

इज़ाज़त दीजिए यशोदा को
सादर


पुनः- क्षमा कीजिएगा अपने आपको रोक नहीं पाई
एक मिनट और दीजिए 









4 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर लिंक्स हैं .... आभार मुझे शामिल करने का ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. कार्टून को भी सम्‍मि‍लि‍त करने के लि‍ए आभार जी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेंढक अच्छा है :)
    बधाई /यशोदा जी और समस्त चर्चाकार/ ब्लाग हलचल के 100 अनुसरणकर्ता हो जाने के लिये ।
    और आभार 'उलूक' के सूत्र का शीर्षक बनाने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...