निवेदन।

*हम अपने पाठकों का हर्षित हृदय से सूचित कर रहे हैं कि शनिवार दिनांक 14 जुलाई, रथयात्रा के दिन हमारे ब्लॉग का तीसरा वर्ष पूर्ण हो रहा है, साथ ही यह ब्लौग अपने 11 शतक भी पूरे कर रहा है, इस अवसर पर आपसे
आपकी पसंद की एक रचना की गुज़ारिश है, रचना किसी भी विषय पर हो सकती है, जिससे हमारा तीसरी वर्ष यादगार वर्ष बन जाएगा* रचना दिनांक 13 जुलाई 2018 सुबह 10 बजे तक हमे इस ब्लौग के संपर्क प्रारूप द्वारा भेजे।
सादर


समर्थक

गुरुवार, 31 मार्च 2016

258.....तन्हा-तन्हा उदास बस्तियां देखी है मैंने

सादर अभिवादन
भाई संजय जी आज भी नहीं है
रचनाएँ तो आएंगी ही
वे आएँ या न आएँ

चलते है ......

ज़िन्दगी की यात्रा में लगे कांटो को अपने ही हाथों निकालते हुए आंसुओंके सैलाब को मन में गठरी बना कर जो हमने रख छोड़ा था ,एक दिन न जाने कैसे उस गठरी की गाँठ खुली और बिखर गए आंसू , दर्द कागज पर हम डरे लोग देखेंगे तो क्या कहेंगे पर दर्द था कि अब गठरी बन दिल में समाना ही नहीं चाहता था| हमने भी जी कड़ा किया और बिखेर दिए अपने दुःख -दर्द , गगन से चमन तक।


इस हक़ीक़त को झुठलाना नहीं आसां, 
कि हर एक शख़्स है, चार दीवारों 
के बीच कहीं न कहीं खुला 
बदन, या और खुल 
के यूँ कहें कि 
बिलकुल 
नंगा।

नदी की राह न रोको ये सिंधु की दीवानी है ,
दिलो  की आग न छेड़ो ये दरिया तूफानी है ,


जिंदगी से खुशी सब, दफा हो गयी।
मौत भी कम्बख्त अब, खफा हो गयी।

उन दिनों कुछ हवाऐं, चलीं इस तरह,
जिंदगी काफी हद तक, तवाह हो गयी।


गली में तेरी शख़्स जो मार खाए
सनद मिल गयी जूँ वो आशिक़ कहाए

चलो कुछ हुआ तो मुहब्बत से हासिल
सनम बेवफ़ा है यही जान पाए


हर राह पर गुलों की कालीन तुम बिछाना
आए हजार बाधा धीरज से लाँघ जाना

ये आसमाँ सजाता सूरज औ' चाँद तारे
तुम रौशनी में इनकी अपने कदम बढ़ाना


और ये है आज की शीर्षक रचना का अंश


क्या चीज़ है अमीरे शहर हक़ीक़त तेरी
अहले दो आलम हस्तियां देखी है मैंनें।

रोशनी मयस्सर नहीं अब तलक अंधेरे को
तन्हा-तन्हा उदास बस्तियां देखी है मैंने।


इज़ाज़त देॆ यशोदा को






12 टिप्‍पणियां:

  1. वेहतरीन संकलन । मेरी रचना को मंच प्रदान करने के लिए आपका आभार यशोदा जी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात
    सस्नेहाशीष छोटी बहना
    अच्छे अच्छे लिंक्स है

    उत्तर देंहटाएं
  3. उम्दा संकलन लिंक्स का आज |

    उत्तर देंहटाएं
  4. वेहतरीन संकलन । मेरी रचना को मंच प्रदान करने के लिए आपका आभार यशोदा जी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बढ़िया लिंक संयोजन .. नए नए रचनाकारों से मिलने का मौका मिला मेरी रचना को स्थान देने हेतु हार्दिक आभार :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप पधारीं
      आनन्दित हुई मैं
      आभारी हूँ
      आते रहिएगा
      सादर

      हटाएं
    2. आप पधारीं
      आनन्दित हुई मैं
      आभारी हूँ
      आते रहिएगा
      सादर

      हटाएं
  7. सुन्दर सूत्र संयोजन...हमारी रचना को स्थान देने के लिए आभार यशोदा जी|

    उत्तर देंहटाएं
  8. धन्यवाद यशोदा जी क्षमा चाहती हूं देर से आने के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभार दीदी
      कहते हैं न
      देर आयद-दुरुस्त आयद
      आपकी रचना रहे यहां या न रहे
      आते रहिएगा
      सादर

      हटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...