पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शनिवार, 12 अगस्त 2017

757.... दीवारें


सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

चौथे पड़ाव
चिहुँकता मौन
झेलते अकेलेपन का दंश
कल जो दिया
आज वही तो पाया
उदाहरण में कहाँ चूके वंश




हमारी दुनिया के लोगों से 
भरी पड़ी है दूसरी दुनिया पर 
सामंजस्य स्थापित करना 
बहुत ही कठिन है 
दूसरों के दुःख सुन कर 
समझ कर अपना दुःख 
तिनका सा लगता है


भारतीय दीवारें


धान की क्यारियों में
भीगी-भीगी नरमाहट- सी
काली मिट्टी में निपजती
गौरांग नवजात -सी रूई की मखमली गुड़िया !
बरगद के पेड़ की
छाया को समेटती
पीपल की बांह पर
नीड़ों को सोने देती


तस्वीरों से भरी दीवारें



लटका दिया था
प्लास्टिक का हार,
धूल भी तो साफ नही करता कोई,
कि अब फ्रेम में दम भी घुटता है।

अब यहाँ कोने में पड़े हैं,
इंतजार है किसी दिन,
पोता आकर तोड़ देगा फ्रेम को,
आजाद हो जायेंगे,
खुली हवा में लौट जायेंगे।



कच्ची दीवार



 दिल मुझपे लुटाया है तो कुछ खास नहीं
आज या कल में तो उनको भी समझना ही था

 कितनी मुद्दत से जलाता रहा दिल को अपने
ऐसे गुलज़ार को दिलदार तो बनना ही था



अभी देर है



सजा लो लाख दरवाजे,दीवारें, महल या कोठी
बहुमूल्य इमारत से घर को बनाने में अभी देर है।

क्यों समझाते हो उन्हें, कद्र क्या है रिश्तों की
जिन्हें रिश्ता  ही समझने में अभी देर है।

जिसकी तस्वीर आब - ऐ - चश्म से धुलता रहा,
उसे तुझ तक तो पहुंचने में  अभी देर है।



><><

फिर मिलेंगे




8 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    सादर नमन..
    धूल भी तो साफ नही करता कोई,
    कि अब फ्रेम में दम भी घुटता है।
    होता ही है ऐसा..होने वाला भी है
    उत्तम चयन
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात। सुंदर प्रस्तुति। बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ प्रभात आदरणीय
    आज संकलन पूर्णतः भिन्न है
    दीवारों में छिपी भावनायें
    कहीं क्रंदन करती ,पुकारती
    आस से देखतीं ,टीसती
    सत्यता के पट खोलती
    दीवारें जीवन के कई रंग
    बहुत उम्दा ! आभार
    "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सराहनीय उम्दा संकलन आदरणीय
    पठनीय लिंकों का संयोजन।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति। बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति विभा जी।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर संयोजन विभाजी...'दीवारें'शब्द से एक भूली हुई गजल याद आ गई....
    दीवारों से मिलकर रोना अच्छा लगता है
    हम भी पागल हो जाएँगे ऐसा लगता है।
    दुनिया भर की यादें हमसे मिलने आती हैं
    साँझ ढले इस सूने घर में मेला लगता है।
    किसको 'कैसर' पत्थर मारें,कौन पराया है
    शीशमहल में हर इक चेहरा अपना लगता है।
    ....सभी चयनित रचनाकारों को बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...