पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शनिवार, 30 जनवरी 2016

अहिंसा




30 जनवरी के लिए चित्र परिणाम



सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

दुखद अन्त हिंसा का होता हमेशा
सुखद खूब होती अहिंसा की रोटी
नई इस सदी में, सघन त्रासदी में
नई रोशनी के दिये फिर जलाएँ।
चलो फिर अहिंसा के बिरवे उगाएँ।
:- डॉ जगदीश व्योम



उदय की दुनिया

झूठों की इस बस्ती में
फ़ंस जाने से डरता हूं
'सत्य' न झूठा पड जाये
इसलिये "कलम" दिखाते चलता हूँ




वीनापति

एकतरफ हम अपनी पीठ ठोंककर कहतें हैं
कि     भारतीय फ़ौज   विश्व में सर्व श्रेष्ट है
हम     हर मुकाबले           को तैय्यार हैं
पर          मुकाबले के    समय !अपनी
दुम दबाते  हैं! पता नहीं हम ऐसा क्यों करते हैं




गांधी बन जाओ

जन्मदिन  2 अक्टूबर 1869 काठियावाड़  पोरबंदर गुजरात -
मृत्यु - नाथूराम गोडसे द्वारा गोली मारने से 30.जनवरी 1948 दिल्ली
 (भारत को ब्रिटिश साम्राज्य से मुक्ति दिलाने में
हमारे शहीदों के साथ महान योगदान , अहिंसा के मतवाले , छुआ-छूत  
भेद भाव मिटाने वाले , अमन चैन फैलाने वाले  , सत्य और अहिंसा के प्रयोग
और आत्म-शुद्धि के प्रसार कर्ता




काव्य प्रवाह

उन छद्म अहिंसकों से ,
जो अपनी नपुंसकता छुपाते हैं /
हिंसक अच्छे हैं ,
जो मानवता बचाते  हैं /
यह मात्र विद्रोह नहीं
विचारणीय सवाल है ,




विचार

Quote 68: Contradiction is not a sign of falsity,
nor the lack of contradiction a sign of truth.
In Hindi: विरोधाभास का होना झूठ का प्रतीक नहीं है
और ना ही इसका ना होना सत्य का .
Blaise Pascal ब्लेज़ पास्कल

आकाश को छू लो

अँधेरे में जो बैठे हैं, उनकी जीवन में प्रकाश भरो
              "काम देश के आएं हम भी" ऐसी इच्छा मन में करो
              जिसमे देशहित हो सर्वोपरि, सपनो को वो पत्ते खोलो
              अपनी कीर्ति ही न देखो, कमियों को भी कभी टटोलो
              बैठ किसी सुख की नैया में सपनो की लहरों पे न झूलो




नया सवेरा

हारने को तो कोई भी, कहीं भी, किसी से भी हार जाता है
और जीत का भी, लग-भग यही पैमाना होता है !!

पर
वह इंसान, कभी नहीं हारता, जिसकी लड़ाई
सत्य के सांथ, अहिंसा के पथ पर होती है
फिर, भले चाहे, लड़ाई -
सबसे ताकतवर आदमी से ही क्यों न हो !



फिर मिलेंगे ....... तब तक के लिए

आखरी सलाम


विभा रानी श्रीवास्तव



8 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    दुखद अन्त हिंसा का होता हमेशा
    सुखद खूब होती अहिंसा की रोटी
    नई इस सदी में, सघन त्रासदी में
    नई रोशनी के दिये फिर जलाएँ।
    चलो फिर अहिंसा के बिरवे उगाएँ।
    - डॉ जगदीश व्योम

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात
    अँधेरे में जो बैठे हैं, उनकी जीवन में प्रकाश भरो
    "काम देश के आएं हम भी" ऐसी इच्छा मन में करो
    सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. उत्तर
    1. शुभ प्रभात भाई
      आखिर आपको पता चल ही गया
      कि मैं आपके सद्य प्रकाशित रचना पढ़ने
      उलूक के दफ्तर में गई थी
      ये तिवारी है कौन
      मुझे कल ही लाइसेंस मिला है
      रिवाल्वर का..
      सोचती हूँ कि
      प्रयोग कर के देखूँ
      सादर

      हटाएं
  4. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  5. उत्तम प्रस्तुति विभा जी ..और.. मेरी कविता "अहिंसा और कायरता " जो "वीनापति" नामक इ पत्रिका में छपी थी.. को इस प्रस्तुति में स्थान देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद .. आज ही मैंने अपनी तीन चुनिन्दा कवितायेँ इ मेल से आपको भेजी हैं "तू हरजाई ".."बचपन और कागज़ी नाँव " तथा "पिताजी"..यदि आपको जंचे तो साहित्यकुंज में स्थान दीजियेगा ..

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...