पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

मंगलवार, 19 जनवरी 2016

186.........जिन्दगी गुलाब सी बनाओ साथियो

सादर अभिवादन स्वीकारें
कल तो पूरी कविता ही लिख डालती
कुछ मन कह रहा था
तो कुछ मौसम खुशनुमा था

चलिए आज की रचनाओं की ओर ले चलूँ..

हर बात गवारा कर लोगे,
मन्नत भी उतारा कर लोगे
तावीज़ें भी बंधवाओगे
जब इश्क़ तुम्हें हो जायेगा


अच्छा महसूस होता है 
दवाई भी इसीलिये 
नहीं कोई कभी खाई है 
बैचेनी सी महसूस 
होने लगती है हमेशा 
पता चलता है जब 
कई दिनों से उनकी 
कोई खबर शहर के 
पन्ने में अखबार 
के नहीं आई है 

अनुत्तरित ही रह जाते हैं
तुम्हारे कुछ प्रश्न
अनदिए ही रह जाते हैं
मेरे कुछ उत्तर |
“”अच्छा! चलती हूँ !””’’
और ...
“फिर कब आओगे ?’’के बीच ,
छूट जाता है, कितना कुछ !
आने वाले कल के लिए

रूह के रिश्ते
होते हैं अजीब
न समझो तो हैं दूर.
जो समझो तो हैं बहुत करीब


और ये रही प्रथम व शीर्षक कड़ी
किसी ने गुलाब के बारे में खूब कहा है- 
“गीत प्रेम-प्यार के ही गाओ साथियो, 
जिन्दगी गुलाब सी बनाओ साथियो।" 
फूलों के बारे में अनेक कवियों, गीतकारो और शायरो ने 
अपने मन के विचारों को व्यक्त किया है, जैसे-  
“फूल-फूल से फूला उपवन, 
फूल गया मेरा नन्दन वन“। 

आज्ञा दें यशोदा को
और सुनें ये गीत







7 टिप्‍पणियां:

  1. फूल-फूल से फूला उपवन,
    फूल गया मेरा नन्दन वन“।
    सुन्दर लिंको के साथ सार्थक चर्चा यशोदा दीदी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर हलचल प्रस्तुति । आभार 'उलूक' की चर्चा के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर हलचल प्रस्तुति में प्रथम व शीर्षक कड़ी के रूप में मेरी ब्लॉग पोस्ट को शामिल करने हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर पहल अच्छे विचार आने चाहिए

    उत्तर देंहटाएं
  5. आँगन फूलों से सजाओ साथियो ।
    जिंदगी को अपने खिलाओ साथियों ॥
    आवम अपना मिल सजाओ सथियो।
    बगिया को गुलब से लहराओ सथियो॥

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...