पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

रविवार, 17 जनवरी 2016

184...सच से भागते हम


जय मां हाटेशवरी...
कभी कभी इतनी अधिक हलचल हो जाती है...
हलचल ही नहीं लगाई जाती है...
कहते हैं न होनी को कोई नहीं टाल सकता...
आज मैं हलचल नहीं लगा सका....
ये होनी तो है न...
सब कुछ तैयार था...
बस हलचल मात्र प्रकाशित करनी ही थी कि...
नैट रुक गया...
होनी हो कर ही रही...
पर दीदी जी का आभार...
हलचल की नियमितता को ढैने न दिया...
अब बिना रुके आज की ब्लौग हलचल...

सह अस्तित्व.... विद्या गुप्ता
s1600/%25E0%25A4%2585%25E0%25A4%25B0%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%25A7%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%25AF%2B%25E0%25A4%2595%25E0%25A4%25BE%2B%25E0%25A4%259C%25E0%25A4%25B2
माँ जैसा गुनगुनापन जो ,
अंकुरों में भरता
दानों में झरता हैं दूध सा
अतल में है कहीं तल
छोर में अछोर
विज्ञान के कटघरे में
बे -दिल है चाँद ,मगर
अभी भी धडकता है अबोध
बाल मन का मामा बनकर .

नया साल
बीत तो तुम रहे हो मेरे बच्चे
मैं तो वहीं का वहीं हूँ
अनंत काल से
आगे भी वहीं रहूँगा
तुम्हारे पुनः पुनः पुनरागमन के दौरान
तुम्हारे निर्वाण तक
जब हमारा और तुम्हारा
डाइमैन्शन एक हो जाएगा

गुरु गोविंद सिंह जी [ second to non
पीर भीखम शाह [दरवेश]-
पटना [bihar ] की तरफ रुख करके  अपनी नमाज    
   पढते रहे ,यह घोषित कर के की मेरा साईं पटना में अवतरित हो गया है  ...

स्वामी विवेकानंद
        हमारी नस्ल का महान गौरवशाली नायक ......

लार्ड कनिंघन [इंगलैंड]-
....The  lowest  of the  lowly became equal  to  the  highest  of  the  higher  caste .

स्वामी महेश्वरा नन्द -
     गुरु गोबिंद सिंह जी ने ,एक सिख में ब्राम्हण क्षत्रिय  वैश्य ,शुद्र की सभी शक्तियों[ गुणों ] को समाहित कर दिया ......

सच से भागते हम
हमने अच्छाई के प्रतिमान गढ़ रखे हैं। मनुष्य के आदर्श को स्वयं में तलाशते हैं। आदर्श का प्रकटीकरण अपने परिवार में मानते हैं। अपने समाज को भी श्रेष्ठ मानते
हैं। स्वयं के अवगुण कभी दृष्टिगत नहीं होते।

दर्द के बदले दर्द
मुझे मेरे दर्द की दवा मिल गई थी।उनके पास अभी भी भारी मात्रा में दर्द मौजूद था।जिस दिन उन्हें उपयुक्त समय और जगह मिल जायेगी,उनके दर्द का भी स्थाई इलाज हो
जायेगा।दर्द को तभी तक आराम है,जब तक वो व्यक्तिगत नहीं हो जाते।खबर लिखे जाने तक दर्द को हिरासत में लिया जा चुका था।उम्मीद है कि दर्द को जल्द ही जमानत की
दवा मिल जाएगी।


धन्यवाद।


 







6 टिप्‍पणियां:

  1. वाह भाई कुलदीप जी
    आज दो प्रस्तुति आनी थी
    सो आई..
    नियति का लिखा
    कोई नहीं मिटा सकता
    कुल मिलाकर ये अच्छा ही हुआ
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आभार मेरी रचना को यहाँ शामिल करने के लिए .... सुंदर लिंक्स

    उत्तर देंहटाएं
  4. आभार मेरी रचना को यहाँ शामिल करने के लिए .... सुंदर लिंक्स

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...