पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 11 जनवरी 2016

177.......मुस्कुराना सिखाती है मित्रता

स्वर्गीय श्री लाल बहादुर शास्त्री
पूर्व प्रधानमंत्री, भारत


2 अक्टूबर 1901 – 11 जनवरी, 1966
विनम्र श्रद्धांजली, आज पुण्य तिथि है
...........

सादर अभिवादन स्वीकार करें...

आज की पसंद...


हमने तो तोहफे में दिल दिया,
जाने वे उसे क्या समझ बैठे ,
दूसरे नजरानो की तरह ही,
रख किसी कोने में घर के,


मिटने से मेरे दर्द भी मिट जाये गर तेरा
तो सामने रखा है तेरे सुन यह सर मेरा

तेरे दर्द का मैं ही हूँ सबब जानता हूँ मैं
सब दर्द तेरे सच हैं सखी, मानता हूँ मैं


जहाँ सब छोड़ जाते हैं
वहां आ खड़ी होती है मित्रता
कठिन से कठिन समय
भी मुस्कुराना सिखाती है मित्रता


चंद कदम भर साथ तुम रहे,
संग चल कर हमसफर न हुए,

पग पग वादा करते ही रहे,
होकर भी एक डगर न हुए ।


बेवफाई का है अजब आलम ,
अब कहाँ जाँ-निसार मिलते हैं।

एक सिहरन है लाज़िमी उठना,
जब "कुँवर" दिल के तार मिलते है।


पाँच कड़ियाँ पूर्ण हुई
चलते-चलते...
ये रख दी मैंनें आज की प्रथम कड़ी


मगध सत्ता में..गिरीश पंकज
उभरे दुरजन धीरे-धीरे
खुला करप्शन धीरे-धीरे ।।

संतो, बचना पास बुलाए
तन, धन, कंचन धीरे-धीरे ।।
......
इज़ाज़त दें यशोदा को
फिर तो मिलना ही है











5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात. दीदी...
    आजादी के बाद...
    सबसे प्रीय हैं मुझे स्वर्गीय श्री लाल बहादुर शास्त्री जी....
    पर ऐसे नेताओं को टिकने कौन देता है...
    श्रधा से कोटी-कोटी नमन...
    सुंदर लिंक संयोजन....
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर लिंक संयोजन । मेरी रचना को यहाँ स्थान देने के लिए हार्दिक आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!
    स्वर्गीय श्री लाल बहादुर शास्त्री जी की पुण्य तिथि पर सादर श्रद्धा सुमन!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...