पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

मंगलवार, 5 जनवरी 2016

171..सोलहवाँ साल लग गया इक्कीसवीं सदी को

सादर अभिवादन स्वीकार करें
एक से एक सोच बन रही है
सोलहवां साल लगते ही
लवणीय हो जाती है देह
पागल कर देती है
सठियाए हुए लोगों को भी..अस्तु
मैं भी रूमानी हो चली थी आज
ऋतु शरद का आगमन जो हो रहा है

तो चलें..


मन में है ये नफ़रत क्यूँ
इंसान की ऐसी फ़ितरत क्यूँ
छोटा सी ही ये जीवन है
उसमें जीना ज़रा सा क्या



2016 आ गया। यह साल कैसा होगा, यह तो समय के गर्भ में हैं लेकिन हर कोई अपने अपने अंदाज में इसकी व्याख्या करने में लगा हुआ है। कोई खुद को २० का होना और अपनी प्रेयसी को १६ का हो जाने का शायराना अंदाज दिखा रहा है तो कोई सुफियाना अंदाज में कह रहा है, 
21 वीं सदी को सोलहवाँ साल लग गया।



ये वो माँ है जिसके सारे बच्चे अच्छे पद व रुतबे, 
कोठी व कार वाले हैं 
ये वो माँ है जिसने दो रुपये की खादी की साड़ी पहन 
बच्चों को अच्छे कपड़े पहनाये 
ये वो माँ है जो खुद भूखी रही पर 
बच्चों का पेट भरा खुद के बच्चों का पालन सब करते हैं




उन्नयन में..उदयवीर सिंह
हम रह गए अपने घरों मे ही कैद
मुबारकबाद रश्मी होकर रह गए -
तराशते रहे सियासती मूरत,न मिली
मेरे हाथ जख्मी होकर रह गए -



उच्चारण में... डॉ. रुपचन्द्र शास्त्री
शस्य-श्यामला धरा पर, बनें सुखद संयोग।
नये साल में लोग सब, होंवे सुखी निरोग।।

सरिताओं में फिर बहे, पावन-निर्मल घार।
नाविक के कर में रहे, नौका की पतवार।।

और ये है आज की अंतिम कड़ी..


कविता मंच में ...राजेश्वरी जोशी
मेरे शब्द उड़ने लगेंगे
दूर-दूर तक हवा में
करने लगेंगे फूल-पत्ती,
नदी पर्वत से संवाद
कण-कण से टकराएँगे
दूर-दूर तक फैल जाएँगे
धरती से अंबर तक 

आज्ञा दें यशोदा को
फिर मिलेंगे












3 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात...
    समय कितनी तेजी से अपने कदम चलता है...
    2016 के पांच दिन...
    पांच लिंकों का आनंद के 171 दिन...
    अति सुंदर...
    आभार दीदी आप का....

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर व सार्थक लिँक प्रस्तुति...
    नववर्ष मंगलमय हो।
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...