निवेदन।


फ़ॉलोअर

रविवार, 17 मार्च 2019

1339... जीतकर दुनिया भी सिकंदर कुछ नही यहां भोग पाया

सादर अभिवादन
हम सोचे थे की रविवार की प्रस्तुति
न दे.....भाई कुलदीप जी से कह दें
पर वे तो दो शासकीय छुट्टी का सदुपयोग
करते हुए कहीं गरम जगह पर चले गए...
चलो कोई बात नहीं ...हम तो हैं ही...
इस बार की प्रस्तुति मे कुछ गाम्भीर्यता है..
अदरवाईस़ कतई न लें...

अपने समय का सबसे गर्हित दुरात्मा रावण मारा गया। श्रीराम के 
आदेश पर लक्ष्मण ने विभीषण का राज्याभिषेक किया। उसके पश्चात 
राम ने हनुमान ने देवी सीता के पास संदेश भेजा तथा कहा कि क्या कहती हैं, आ कर सुनाओ, सीधे ले आने को नहीं कहा। कदाचित 
उस राष्ट्र के नये राजा के निर्णय के बिना ले आना नीति की दृष्टि से 
उचित नहीं होता। देवी सीता ने हनुमान को देखा किंतु तत्काल 
कोई प्रतिक्रिया नहीं दीं, चुप रहीं।

क्या है प्यार ?
सोशियल मीडिया पर फैला मायाजाल
या
नर्म मखमली शब्दों का जामा....
चंद मुलाकातों की मोहब्बत
या
एक जुनून अंधा....
हवा में उड़ती ऊँची पतंग
या
कच्चे धागे सी उलझती बहस.....
चमकीली पन्नी में सिमटे उपहार

मेरे दिल की हर धड़कन पर लिखा है तेरा नाम
इस बात को छोड़ दें तो मैंने तुझको भुला रखा है।

डर है वक़्त की हवा फिर से सुलगा न दे इसको
कहकर बेवफ़ा तुझे, मुहब्बत को राख में दबा रखा है।

शाखा पर लगा पत्ता
अपने संगी संग
मस्त रहता है
दिन-रात
हर मौसम में
बिना ग्लानि
बिना  असंतोष
सब सहता है

आज उसकी गली से गुज़रते हुए ....

वो अचानक न जाने जुदा क्यों हुआ, 
आज तक मैं समझ ये न पायी कभी,
आज उसकी गली से गुज़रते हुए, 
जख़्म दिल के अचानक हुए फिर हरे।

मिट्टी की आशा ....
Image result for मिट्टी की आशा
सब चीजों को हमने 
बस ,पाने का मन बनाया , 

जब हाथ नही वो आया 
तो मन दुख से भर आया ।

जीतकर दुनिया भी सिकंदर 
कुछ नही यहां भोग पाया , 
...
आज अब बस
दें आदेश
यशोदा













16 टिप्‍पणियां:

  1. व्वाहहह
    बेहतरीन प्रस्तुति
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  2. सस्नेहाशीष व शुभकामनाओं संग उम्दा संकलन की बधाई

    जवाब देंहटाएं
  3. सुप्रभात दीदी जी 🙏🙏
    बेहतरीन हलचल प्रस्तुति 👌
    सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह बहुत सुन्दर प्रस्तुति शानदार संकलन सभी रचनाएं सुंदर सुघड़।
    संकलन पर आपकी मेहनत को नमन।
    सभी रचनाकारों को बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  5. मुझे यहाँ स्थान देने के लिये बहुत बहुत आभार....सभी रचनाएं बेहतरीन

    जवाब देंहटाएं
  6. बेहतरीन प्रस्तुति , सभी लिंक्स शानदार । चयनित रचनाकारों को बहुत बहुत बधाई ।

    जवाब देंहटाएं
  7. सुंदर के सार्थक प्रस्तुति। सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई। शुभकामनाएं। सादर।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुंदर व सार्थक प्रस्तुति।* धन्यवाद।

      हटाएं
  8. बेहतरीन रचना संकलन एवं प्रस्तुति,सादर

    जवाब देंहटाएं
  9. शानदार प्रस्तुतिकरण उम्दा लिंक संकलन...।

    जवाब देंहटाएं
  10. सुंदर प्रस्तुति आदरणीय यशोदा दीदी। सभी रचनाकारों को बधाई और शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  11. तहे दिल से आभारी हो आप सभी की, आपने मेरी रचना को शामिल ही नहीं बल्कि उसे सराहा भी ।सभी की रचनाओं को पढ़ी मैं ,बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बधाई देती हूं ।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...