निवेदन।


समर्थक

गुरुवार, 14 मार्च 2019

1336....ख़ुश-गवार रंगीला मौसम छायी छटा बसंत....

सादर अभिवादन। 


हैं 
खिले 
सेमल 
आजकल 
ख़ुश-गवार  
रंगीला मौसम 
 छायी छटा बसंत। 
-रवीन्द्र  

आइये अब आपको आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर ले चलें- 

मेरी फ़ोटो

 बादलों में बूँद सी
 आत्मा संसार में
   पुष्प में सुगन्ध सी
    व्याप्त है ब्रम्हाण्ड में


My photo

 कब कदंब की डाल बैठकर 
    मुरली मधुर सुनाओगे 
     विरह की मारी सभी गोपियाँ 
    सुध-बुध भूल गई हैं 
         अब तो होली भी आ गई कान्हा....
          आकर रास रचा जाओ 
            कब आओगे ......।



कसक बहुत रही है आज ।
जो तोड़ ना सके थे कायर हाथ ।
उन बीते दिनों के अनचाहे ...
बंधनों की झूठी लाज ।।



साईकल की उतरी हुई चेन
और हाथों में सनी ग्रीस के निशान भेजे हैं
तुम्हारे पीछे भागने की मेरी इच्छा
और तुम्हारे ढूँढने पर छुप जाने के
शरारती खेल भेजे हैं



‘राजनीति में कुछ सुनिश्चित नहीं होता- चालें ही अगली चालों की भूमिका बनती हैं’ (पृष्ठ-158). और दूसरा कथन भी तिवारीजी का ही है, जब मुद्दा खडा करने की राजनीतिक फितरत से आगे जाकर विनोद मुद्दे को हल करने के सीधे उपाय बना-बताकर मंच से उतर चुका है और प्रेस के साथ बातचीत होनी बाकी है – ‘कुछ मिल सकता है तुम्हारी बिरादरी को, तो सरकार से ही-  हमारी सरकार से. और ये घर-वापसी के दिमांगी फितूर से क्या मतलब है तुम्हारा? एक गुमशुदा की तलाश तक तो कानून-व्यवस्था कर नहीं पाती- मिल पाती है पटरी पर पडी उसकी लावारिस लाश. उसे भी लावारिस मुर्दे की तरह फूँक-फाँक फेंक देती है पुलिस’ (पृष्ठ-190). और यही हुआ विनोद के साथ, क्योंकि प्रेस से बातचीत में भी उसने वही किया- किन्नरों को भीड व मुद्दा बनाकर रखने के बदले सचमुच ही उनके निस्तार का काम.... और फिर हो गया उसी का काम तमाम.....

हम-क़दम का नया विषय

आज बस यहीं तक 
फिर मिलेंगे अगले गुरूवार। 
रवीन्द्र सिंह यादव    

12 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात..
    बेहद अच्छी वासंतिक प्रस्तुति..
    आभार...
    सादर..

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति । तहेदिल से सादर आभार संकलन में मेरी रचना को मान देने के लिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति !! मेरी रचना को स्थान देने हेतु हृदयतल से आभार रविन्द्र जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति रवीन्द्र जी

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर मनभावन प्रस्तुति फाग की रंगत लिये।
    बहुत उम्दा संकलन।
    सभी रचनाकारों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर व सार्थक लिंक। सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  7. शानदार प्रस्तुतिकरण उम्दा लिंक संकलन...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सारे त्योहारों पर बाज़ार हावी होता चला जा रहा है

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...