पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

सोमवार, 13 जून 2016

332...गोलि‍यों के नि‍शान अब भी बीते जख्‍म को कुरेद जाते हैं

अभिवादन स्वीकार करें...

आज-कल अन्तर्जाल तरक्की पर है
जी. जी और अब जी भी
गति भी बे-इन्तेहां
फिर भी कहीं कहीं
दिखाई ही नहीं देती गति
गुम हुइ सी लगती है....

चलिए बातें-वाते तो होती ही रहेंगी आगे बढ़ते हैं....

कालीपद 'प्रसाद'......
राजनयिक औरों के कन्धे पर से बन्दूक चलाता है
अपना विशेष गुप्त मिशन संदूकों में गोपन रखता है
जन हित में मन्दिर बनाने की, वायदा तो एक बहाना
खुद की रोजी रोटी का इन्तजाम, मन्दिर से करता है




शून्य के भीतर भी ,
होते हैं बहुत सारे शून्य ,
जब जब तुम चुप रहे ,
शून्य धंसते गए ,
एक के भीतर एक ,
फिर एक और एक,




रास की रात
मंत्रमुग्ध राधिका
विमुग्ध कान्हा
हर्षित ग्वाल बाल
आल्हादित यमुना !



एक बार कबूतरों का झुण्ड, बहेलिया के बनाये जाल में फंस गया। सारे कबूतरों ने मिलकर फैसला किया और जाल सहित उड़ गये "एकता की शक्ति" की ये कहानी आपने यहाँ तक पढ़ी है ....
इसके आगे क्या हुआ वो आज प्रस्तुत है 



ये है आज की शीर्षक कड़ी
शहीदी कुएं के बगल में ही दीवार है जहां गोलि‍यों के 28 नि‍शान अंकि‍त है। यह हमें याद दि‍लाता है क्रूर नरसंहार। थोड़ी दूर पर लौ के रूप में एक मीनार बनाई गई है जहां शहीदों के नाम अंकि‍त हैं। उसके ठीक पीछे की दीवार पर भी गोलि‍यों के नि‍शान अब भी बीते जख्‍म को कुरेद जाते हैं।

आज बस यहीं तक
आज की प्रस्तुति उन्हें बनानी थी
पर.. ये मैं हूँ न..अपने नाम से सूचना दे डाली
उपरोक्त पंक्तिया उन्ही की लिखी है

सादर..
यशोदा

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत-बहुत आभार आपका यशोदा जी आज के चयनित सूत्रों में 'सुरभित प्रेम' की महक को फैलाने के लिये ! हृदय से धन्यवाद आपका !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ संधया...
    मैं भी पहुंच ही गया...
    आप की प्रस्तुति पढ़ने के लिये...
    न पहुंच पाता तो आप की पसंद पढ़ने का सौभाग्य न मिलता....

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...