पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

बुधवार, 8 जून 2016

327.....रूद्र अब की बाढ़ में इस देश का कूड़ा गहें

सादर अभिवादन
देखते ही देखते साल गुज़र गया
लगता था रास्ता लम्बा है
अब तो सामने मील का पत्थर भी
दिखाई पड़ने लगा है....

आज लगता है कुछ पढ़ ही नही पाई
सामने जलेबी दिख गई
मगन हो गई उसी में.... 


सच को ..... 
चाशनी में लपेटना ..... 
हमेशा भूल जाती हूँ .....
जबकि जलेबी पसंद है ..... 
लेकिन मिर्ची ज्यादा लुभाती है .....
-विभा रानी श्रीवास्तव उवाच

फेसबुक जैसा असली दुनिया में भी ब्लॉक का आप्शन होना चाहिये था
बार बार साधू की भूमिका नहीं निभानी पड़ती किसी बिच्छू के लिए
नजरों के सामने गुलाटी मारते देखना ज्यादा दंश देता होगा न


आप लाख सिर पटक लीजिए, बिहार में प्रतिभा पर सिफारिश भारी पड़ती है, पड़ती रहेगी। कोई रूबी, कोई सौरभ, सर्वश्रेष्ठ छात्रों की प्रतिभा भर भारी पड़कर श्रेष्ठतम साबित होता रहेगा। जहां कवि की कल्पना भी नहीं पहुंच पाए, वहां पैरवी पहुंचती रहेगी।

मैंने रास्ते से कटीली झाड़ियाँ बटोरीं
और उसके निकास पर बिछा दी
वो उनपर पैर रखकर चला गया
मैंने देखा कुछ दूर जाकर उसने पैर के काटें निकाले



फिक्र बिलकुल न करें आग बुझाने वाले। 
पानी पानी हैं सभी आग लगाने वाले।

मुझको अहसासे-मुहब्बत पे गुमाँ है लेकिन,
उनको अहसास करा देंगे कराने वाले।


ईंट ईंट घर की दरकने लगी
नीव खुद-ब-खुद ही सरकने लगी

बात जब बदलने लगी शोर में
छत दरो दिवार चटकने लगी

आज की शीर्षक रचना...

साधुओं की  बेहयाई है शिखर पर आजकल  
मन वचन कर्मों से डाकू,फिर भी साधू से लगें !

धर्म रक्षक हैं परेशां, ताकत ए साईं की देख
कैसे इस दमदार शिरडी को भी, गेरू से रंगें !


बस भी कर यशोदा
गिनती भूल गई क्या
........




10 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    सस्नेहाशीष छोटी बहना
    बहुत बहुत धन्यवाद आपका

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तर
    1. शुभप्रभात...
      आभार सर आप का...
      कोशिश तो यही है गिनती जारी रहे...

      हटाएं
  3. बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छे है सभी सूत्र ...
    आभार मुझे शामिल करने का ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. कभी भूलना भी सुखद रहता है , चाहे किसी और के लिए ही सही ...
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...