पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 1 सितंबर 2016

412..परीक्षा उत्तर पुस्तिका की आत्मा की कथा यानी उसके भूत की व्यथा

सादर अभिवादन
बिना किसी लाग-लपेट के
सीधे चलते है पसंदीदा रचनाओं की ओर....

बनते-बिखरते
सुलगते- मचलते
गिरते- संभलते
फूल सा महकते
काँच सा चटकते
हसरतों से तकते
ये बेज़ुबां सपने



मैं जानता हूं कि.....ज़हीर कुरेशी
इतना तो तय था कि
अस्मत लुटा के लौटेगी,
सुबह की भूली
अगर रात भर नहीं लौटी।


एक अफसाना..आशा सक्सेना
एक अफसाना सुनाया आपने
गहराई तक पैठ गया मन में
जब पास बुलाया आपने
थमता सा पाया उस पल को
कसक शब्दों की आपके
वर्षों तक बेचैन करती रही




यूँ तो बदलते रहे रंग ओ नूर ज़िन्दगी के, 
बेअसर रहा लेकिन दिल ए किताब मेरा। 
अंधेरों के खेल में कहीं सहमा सा है उजाला, 
हर हाल में है ताज़ा, वो पोशीदा गुलाब मेरा।






पुरानी बकवास नया लिबास
तेरी कहानी 
भी कोई 
छोटी मोटी 
नहीं होती है 
तेरे छपने 
के ठेके से 
शुरु होती है 
मुहर लग कर 
सजा सँवर कर 
लिखने वाले 
तक पहुँचती है


पाँच का मतलब पांच
आज्ञा दें
यशोदा को
सादर

7 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात दीदी
    इतना तो तय था कि
    अस्मत लुटा के लौटेगी,
    सुबह की भूली
    अगर रात भर नहीं लौटी।
    बहुत अच्छी हलचल
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति यशोदा जी। आभार यशोदा जी 'उलूक' की एक पुरानी बकवास को आज के सूत्रों में जगह और चर्चा को उसका शीर्षक देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अति सुन्दर प्रस्तुतीकरण यशोदा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  5. अति सुन्दर प्रस्तुतीकरण यशोदा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  6. धन्यवाद यशोदा जी मेरी रचना शामिल करने के लिए |

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...