पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

सोमवार, 9 मई 2016

297....सात बार चाबी घुमाओ दो घंटे तक पंखे की हवा खाओ..

सादर अभिवादन स्वीकारें..
मदर्स डे
कल निपट गया
पर लिपट गया ब्लॉग जगत से 
पूरे हफ्ते तक....
हम पूरे मनोयोग से मनाते हैं
कोई भी उत्सव....
कल का दिन खुशी लेकर आया
मेरी सहेली रीतिका के लिए
वो प्रथम बार..माँ बनी
वो बहुत खुश है... 
प्यारी - सी बेटी पाकर
शुभकामनाएँ उसे...

चलिए चलें आज की पढ़ी रचनाओं की ओर

है सलामत मेरे सर पर,
माँ का आँचल जब तलक।
कैसी भी आएं मुश्किलें,
छू न सकेगी तब तक।

हाइकू गुलशन में.....सुनीता अग्रवाल
पंख ही नहीं
दिशा व हिम्मत भी
माँ ने ही दिया


अभिनय हो नहीं पाता सो सीन से निकल लेता हूं
संबंधों में लड़ नहीं पाता बस रास्ता बदल लेता हूं

दिख जाते हैं अब भी कभी कभार वह चौराहे पर 
सिगरेट सुलगाता हूं सुलगता हूं और चल देता हूं


कई बार मन खिन्न हो जाता है
लगता है एक मै ही हूँ, जो परेशान है
मेरे ही पास बहुत काम है
मुझे कुछ ऐसा नही मिला, जिसके लिये खुश रहूँ

ज़ख्म जो फूलों ने दिए में....वन्दना गुप्ता
जन्म मृत्यु के द्वार तक जाकर
तुझको जीवनदान दिया है
ये तू भूल सकता है
बेटा है ना ............
मगर वो माँ है ............


अंत में एक अविष्कार.....
समाधान में..विवेक सुरंगे
सात बार चाबी घुमाओ
दो घंटे तक पंखे की हवा खाओ...
दुमका के रहने वाले निरंजन शर्मा ने 13 साल की मेहनत के बाद चाबी से चलने वाले पंखे का आविष्‍कार किया है। पेशे से बढ़ई निरंजन अपनी दसवीं की पढ़ाई भी पूरी नहीं कर पाए थे। लेकिन अपनी इच्‍छा शक्ति और मेहनत के दम उन्‍होंने यह सफलता हासिल कर ली है।

आज्ञा दें...
मिलेंगे ही...
सादर
यशोदा..












5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात...

    सुंदर संकलन....

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर हलचल .......... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. नमस्कार। मातृ दिवस के उपलक्ष्य में रची गयी रचनाओ के अलावा भी ग़ज़ल और चाभी वाले पंखे के अविष्कार से जुड़ी जानकारी ने संकलन में चार चाँद लगा दिए। इनके मध्य मेरी रचना को यहाँ स्थान देने के लिए हार्दिक आभार ☺

    उत्तर देंहटाएं
  4. नमस्कार। मातृ दिवस के उपलक्ष्य में रची गयी रचनाओ के अलावा भी ग़ज़ल और चाभी वाले पंखे के अविष्कार से जुड़ी जानकारी ने संकलन में चार चाँद लगा दिए। इनके मध्य मेरी रचना को यहाँ स्थान देने के लिए हार्दिक आभार ☺

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति हेतु धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...