निवेदन।


फ़ॉलोअर

गुरुवार, 12 दिसंबर 2019

1609...होश नहीं तुझको तू कौन दिशा से आया...


सादर अभिवादन। 

 भाषा 
भाव 
विचार 
हुए अभिव्यक्ति,
कमरे में 
रखा ग्लोब 
देख रहा व्यक्ति।
-रवीन्द्र 

आइए पढ़ते हैं कुछ चुनिंदा रचनाएँ गुरुवारीय प्रस्तुति में-  


 
आँसू की बूँदें 
तारों के नयनों से 
झरती रहीं

तारों के आँसू
आँचल में सहेजे 
धरती माता


 

सरकारी मजमा

ढोल नगाड़े बजाता हुआ
अखबार की
खबर में
सुबह सुबह रूबरू




Dhruv Singh 

ननुआ का बंदर अपनी बंदरिया को उठाने के लिये झिंझोड़ने लगा। बंदरिया दोबारा नहीं उठी। संभवतः उसे अपने रोज़-रोज़ के झूठ-मूठ के मरने से सच में छुटकारा मिल चुका था। बंदर वहीं अपनी बंदरिया की लाश के पास बैठा-बैठा आसमान की ओर निःशब्द, निर्निमेष देख रहा था मानो वह अपनी बंदरिया की आत्मा को महसूसकर  मन ही मन कह रहा हो-

"चलो अच्छा हुआ, तुझे कम से कम इस नरक से छुटकारा तो मिला!''



 
होश नहीं तुझको

तू कौन दिशा से आया,
शीतल छांव में भूला
समय गमन का आया,
बांध गठरिया चल तू
ये देश वीराना जान ले,
आसक्ति को छोड़ कर
निज स्वरूप पहचान ले



हाँ!
लिखती हूँ
मिटाती हूँ
तुम्ही से कहना है
और तुम्ही से छुपाती हूँ
  
हम-क़दम का नया विषय



आज बस यहीं तक 
फिर मिलेंगे अगले गुरूवार। 

रवीन्द्र सिंह यादव 

13 टिप्‍पणियां:

  1. वाह बेहतरीन प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं
  2. बेहतरीन प्रस्तुति..
    आभार..
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  3. सुन्दर सार्थक सूत्र ! बेहतरीन संकलन ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से धन्यवाद एवं आभार रवीन्द्र जी ! सादर वन्दे !

    जवाब देंहटाएं
  4. लाजवाब सूत्रों के बीच जगह देने के लिये आभार रवींद्र जी।

    जवाब देंहटाएं
  5. शानदार प्रस्तुति छोटी और गहरी भुमिका।
    सार्थक चर्चा अंक विविध विषयों पर दृष्टिपात करता सुंदर संकलन।
    सभी रचनाकारों को बधाई मेरी रचना को शामिल करने के लिए हृदय तल से आभार।

    जवाब देंहटाएं
  6. शानदार प्रस्तुति, बेहतरीन रचना संकलन

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह! बहुत सुंदर प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह!रविन्द्र जी ,सुंदर प्रस्तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  9. शानदार प्रस्तुतिकरण उम्दा लिंक संकलन..

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...