निवेदन।


समर्थक

शनिवार, 14 दिसंबर 2019

1611... कोई फर्क नहीं पड़ता...


सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष


फ़ोटो का कोई वर्णन उपलब्ध नहीं है.

13 दिसम्बर 2019 को यहाँ पहुँची हूँ
दिन-रात का फर्क है कुछ ज्यादा ही
जहाँ से आई हूँ और अभी जहाँ हूँ

कोई फर्क नहीं पड़ता

कोई फर्क नहीं पड़ता

कोई फर्क नहीं पड़ता
इस देश में राजा हिन्दू हो या मुसमान,
जनता तो बेचारी लाश है,
हिन्दू राजा हुआ तो , जला दी जाएगी
और मुसलमान राजा हुआ
तो दफना दी जाएगी

मैं हूँ इस देश का गौरव

किन्तु खेद क़ी समय से नहीं रह सक़ी अछूती,
दिशा देती थी जो सबको, आज खुद ही है भटकी,
जिसे थे सुलझाने समस्या, आज झेल रही है समस्या,
आज संशय में शायद, क्या मै हूँ देश बनाती?

गुनाह

किसके थे गुनाह , मैं ये सोचता हूँ
क्यूँ खो गया था मैं , ये पूछता हूँ
पर क्यूँ पूछता हूँ , जब मैं ये जानता हूँ
करता हूँ स्वयं स्वांग , पर नहीं मानता हूँ
ये सब किया धरा , मेरा ही घेरा है
गुनाहों का लगाया यहाँ , मैंने ही डेरा है

गज़ल शिल्प

मेरे दिल की गहराइयों को न छूना
अकेला हूँ , तन्हाइयों को न छूना |

हर इक साज़ मेरे दिल का है टूटा
शिकिस्ताँ हैं शहनाईयों को न छूना।

प्रवृत्तियाँ

प्रकृति जहां एकांत बैठि निज रूप संवारति।
पल-पल पलटति भेष छनिक छवि छिन-छिन धारति॥
-
सुंदर सर है लहर मनोरथ सी उठ मिट जाती।
तट पर है कदम्ब की विस्तृत छाया सुखद सुहाती॥

मोह-भंग

भावहीन, संवेदनहीन
निर्दयी,बर्बर प्रस्तर प्रहार
शब्दाघात के आघात
असहनीय वेदना से
तड़पकर मर जाती है 
प्रकृति की कविताएँ,

पुन: मिलेंगे
><


अब बारी है विषय की
99 वां विषय
अलाव
उदाहरण
आओ, अलाव जलाएँ,
सब बैठ जाएँ साथ-साथ,
बतियाएँ थोड़ी देर,
बांटें सुख-दुख,
साझा करें सपने,
जिनके पूरे होने की उम्मीद 
अभी बाक़ी है.
रचनाकार हैं
ओंकार जी

अंतिम तिथिः 14 दिसम्बर 2019
मेल द्वारा शाम तीन बजे तक
प्रकाशन तिथिः 16 दिसम्बर 2019
रिपीट विषय है..
कृपया पुरानी रचनाएं न भेजें



4 टिप्‍पणियां:

  1. जी प्रणाम दी,
    सुप्रभात।
    हमेशा की तरह बेहद सुरुचिपूर्ण पठनीय और सुंदर अंक तैयार किया है आपनै।
    आपकी विशिष्ट प्रस्तुति में अपनी रचना देखकर बहुत खुशी हो रही है आपका.स्नेहाशीष सदैव अपेक्षित है।
    बहुत आभार..शुक्रिया दी।

    जवाब देंहटाएं
  2. व्वाहहहहह
    सदा की तरह बेहतरीन
    सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह ! आदरणीय दीदी, एक नया अछूता विषय और उस पर सार्थक रचना संग्रह ----कोई फर्क नहीं पड़ता -- ये कहना बहुत आसान है पर फर्क पड़ता है | हर कोई प्यार भूल सकता है पर तिरस्कार नहीं | फर्क पड़ता है जब कोई अपना सा होकर भी शब्दाघात से अकारण आहत कर दे | फर्क पड़ता है जब हम किसी को कहना कुछ कहते हैं और जता कुछ और देते हैं || और देशहित में कहूं तो बहुत ही ज्यादा फर्क पड़ता है जब सभी नेताओं का आचरण एक जैसा सिद्ध होता है | व्यर्थ की उम्मीद टूटने पर बहुत फर्क पड़ता है ||संकलन में हास्य कवि सुरेन्द्र शर्मा जी की पंक्तियाँ हास्य में भी एक गंभीर अर्थ समेटे हैं --

    कोई फर्क नहीं पड़ता

    इस देश में राजा रावण हो या राम

    जनता तो बेचारी सीता है

    रावण राजा हुआ , तो वनवास से

    चोरी चली जाएगी

    और राम राजा हुआ तो,

    अग्नि परीक्षा के बाद फिर वनवास में भेज

    दी जाएगी।

    कोई फर्क नहीं पड़ता इस देश में राजा कौरव

    हो या पांडव,

    जनता तो बेचारी द्रौपदी है

    कौरव राजा हुए तो , चीर हरण के काम

    आयेगी

    और पांडव राजा हुए तो जुए में हार

    दी जाएगी।

    इसके साथ ' गुनाह रचना से पंक्तियाँ मन को झझकोर गयी --------इस आत्मकथ्य से बढ़कर खुद के बारे मेंकोई इमानदारी क्या होगी ?

    गुनाह मेरी छाती में , पौधे से पनपते हैं
    निकलकर सापों से फिर , सबको वो डसते हैं
    मैं सोचता हूँ , मैं उन्हें हांकता हूँ
    पर किधर जायेंगे वो , मैं नहीं भांपता हूँ
    फिर कैसे मैं , ख़ुद पे ऐतबार करूँ
    हिम्मत नहीं है , कि ख़ुद से इकरार करू

    कवी का प्रकृति और सौन्दर्य से विमुख होना उसकी रचनात्मकता की मौत है | इसी कडवे से को उजागर करती प्रिय श्वेता की रचना ' मोह भंग बहुत कुछ कहती है |
    सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई और शुभकामनायें | आपको आभार एक नये नवेले विषय पर सुंदर प्रस्तुति देने के लिए | सादर प्रणाम |





    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...