निवेदन।


समर्थक

सोमवार, 11 नवंबर 2019

1578..हम-क़दम का चौरानबेवाँ अंक ....मौन....

स्नेहिल नमस्कार
-----–

वाद-विवाद में विष घना ,बोले बहुत उपाध
मौन रहे सबकी सहे, सुमिरै नाम अगाध
कबीरदास के इस दोहे मेंं निहित सार मौन की संपूर्ण व्याख़्या है।

मौन का सरल अर्थ शांति।
वह अवस्था जहाँ भावों को वाणी से प्रकट नहीं किया जाता  है।
विराट सृष्टि के कण-कण में व्याप्त शब्दहीन अनुभूति मौन को परिभाषित करती है।
मौन की असीम ऊर्जा और शक्ति अंतर्मन से
सकारात्मकता उत्सर्जित करती है।
वैचारिक द्वंद्व,द्वेष मौन से सहजतापूर्वक शांत हो जाते हैं।
मौन से सहनशीलता और आत्ममंथन के भाव जागृत होते हैं।
मौन भाषा के सुसंकार को जन्म देता है एकाग्रता और कल्पनाशीलता की कोमलता संचित कर जीवन में अविचल शांति प्रदान करता है।

आइये सर्वप्रथम आस्वादन करते हैं
दो कालजयी रचना का-

★★★★



स्मृतिशेष हरिवंशराय बच्चन
मौन और पीड़ा
एक दिन मैंने
मौन में शब्द को धँसाया था
और एक गहरी पीड़ा,
एक गहरे आनंद में,
सन्निपात-ग्रस्त सा,
विवश कुछ बोला था;
सुना, मेरा वह बोलना
दुनिया में काव्य कहलाया था।

★★★★



स्मृतिशेष सूर्यकांत त्रिपाठी निराला
मौन
मौन मधु हो जाए
भाषा मूकता की आड़ में,
मन सरलता की बाढ़ में,
जल-बिन्दु सा बह जाए।

★★★★
उदाहरण में दी गई रचना

हिलता
रहता मौन

अंदर से
सिमटते
सिमटते

अपने
को ठोस
बना देता है
मजबूत
बना देता है

ऎसे
मौन की
आवाज

कोई
ऎसे ही

कैसे

सुन सकता है
रचनाकार आदरणीय डॉ. सुशील कुमार जोशी
......
अब आई हुई रचनाएँ..

आदरणीया साधना वैद
मौन ...

मेरे मौन को तुम मत कुरेदो !
यह मौन जिसे मैंने धारण किया है
दरअसल मेरा कम और
तुम्हारा ही रक्षा कवच अधिक है !
इसे ऐसे ही अछूता रहने दो

आदरणीय आशा सक्सेना
है मौन का अर्थ क्या ?

तुम मौन हो
निगाहें झुकी हैं
थरथराते अधर
कुछ कहना चाहते हैं |
प्रयत्न इतना किस लिए
मैं गैर तो नहीं
सुख दुःख का साथी हूँ
हम सफर हूँ |


आदरणीय अनुराधा चौहान
मौन(गीत)

मेरे इस मौन निमंत्रण को,
नहीं ठुकरा देना तुम।
कहीं लोगों की बातों में,
न मुझको भूल जाना तुम।
चले आना ना रुकना तुम,
न कहना कि बंदिशें हैं।।


आदरणीय सुजाता प्रिय
मौन भाषा....
भाषा तो
बहुत है दुनियाँ में,
मौन भाषा की महिमा ही अलग।
न अक्षर
इसके ना मात्राएँ,
फिर भी इसकी गरिमा ही अलग।


आदरणीय मीना शर्मा
लावारिस लाश ....
मौन की सड़क पर
पड़ी रही एक रिश्ते की
लावारिस लाश रात भर !!!

आँसुओं ने तहकीकात की,
राज खुला !
किसी ने जिद और अहं का
छुरा भोंककर
किया था कत्ल उस रिश्ते का !


आदरणीय अभिलाषा चौहान
मौन-मनन

मौन
श्रेयस्कर हो सदा
यह उचित कैसे भला
मौन में समाहित
अथाह वेदना
भीरूता का अंश घुला
मौन की भाषा
कौन पढ़ सकता भला


आदरणीय अनीता सैनी
मौन में फिर धँसाया था मैंने उन शब्दों को

पूनम की साँझ में 
मृदुल मौन बनकर वे 
पराजय का
 दुखड़ा भी न रो पाये 
तीक्ष्ण असह वेदना 
से लबालब 
अनुभूति का जीवन 
 जीकर  
पल प्रणय में भी नहीं खो पाये 


★★★★★

आज का हमक़दम आपको कैसा लगा?
आपकी बहुमूल्य प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा रहती है।
हमक़दम का नया विषय जानने के लिए
कल का अंक पढ़ना न भूलें।

★★★★★

एक प्रश्न
----
बस शब्दों के मौन हो जाने से
न बोलने की कसम खाने से
भाव भी क्या मौन हो जाते है??
नहीं होते स्पंदन तारों में हिय के
एहसास भी क्या मौन हो जाते है??


एक प्रतिज्ञा भीष्म सी उठा लेने से
अपने हाथों से स्वयं को जला लेने से
बहते मन सरित की धारा मोड़ने से
उड़ते इच्छा खग के परों को तोड़ने से
नहीं महकते होगे गुलाब शाखों पर
चुभते काँटे मन के क्या मौन हो जाते है??

ख्वाबों के डर से न सोने से रात को
न कहने से अधरों पे आयी बात को
पलट देने से ज़िदगी किताब से पन्ने
न जीने से हाथ में आये थोड़े से लम्हें
वेदना पी त्याग का कवच ओढकर
अकुलाहट भी क्या मौन हो जाते है??


#श्वेता सिन्हा

14 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन संग्रहणीय अंक..
    श्रम को नमन..
    सभी को शुभकामनाएँ..
    सादर...

    जवाब देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात 🙏 बहुत सुंदर लिंक्स, बेहतरीन रचनाएं, मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार श्वेता जी।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर रचनाएं |
    मेरी रचना "मौन का अर्थ क्या " शामिल करने के लिए आभार श्वेता जी |

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह!!बेहतरीन प्रस्तुति !!सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई ।

    जवाब देंहटाएं
  5. बेहतरीन प्रस्तुति प्रिय श्वेता दी.
    मुझे स्थान देने हेतु तहे दिल से आभार.
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  6. अति उत्तम प्रस्तुति प्रिय श्वेता

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्दर सूत्रों का चयन ! हर रचना के पार्श्व से मौन की मुखरित होती ध्वनि मन को छू जाती है ! सभी रचनाएं अनुपम ! सभी रचनाकारों को मेरा सादर अभिनन्दन ! मेरी रचना को आज की इस विशिष्ट प्रस्तुति में स्थान देने के लिए आपका हृदय ताल से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार श्वेता जी ! सप्रेम वन्दे !

    जवाब देंहटाएं
  8. मौन को परिभाषित करती श्रेष्ठ रचनाएं,
    बहुत ही सुन्दर रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई मेरी रचना को स्थान देने के लिए सहृदय आभार सखी सादर 🙏🌷😊

    जवाब देंहटाएं
  9. मौन को परिभाषित करती सुंदर संकलन प्रिय श्वेता | मौन आन्तरिक ऊर्जा को संग्रहित करने की सर्वोत्तम क्रिया है | मौन वाचालता के प्रवाह में कही गयी अनावश्यक बातों से हमारी रक्षा करता है तो वहीँ कुछ कहने को सीमित कर बाहुत प्रेरक और अनमोल कर देता है |
    दो पंक्तियाँ मेरी भी -
    मौन प्रखर है , मौन मुखर है ,
    मौन में सब रंग मिलते
    मौन भाव की सृजन भूमि जहाँ फूल सृजन के खिलते |
    सभी रचनाकारों को बधाइयाँ इस विशेष आयोजन का हिस्सा बनने के लिए |

    जवाब देंहटाएं
  10. बस शब्दों के मौन हो जाने से
    न बोलने की कसम खाने से
    भाव भी क्या मौन हो जाते है??
    नहीं होते स्पंदन तारों में हिय के
    एहसास भी क्या मौन हो जाते है??
    इस प्रश्न के बाद मौन की व्याख्या करने को और कुछ कहाँ बचता है ? दिनभर जरूरी काम से बाहर रही। वास्तव में अभी अन्य रचनाएँ पढ़ी ही नहीं हैं।
    अंक में रचनाओं की मुख्य पंक्तियाँ दर्शा रही हैं कि सभी रचनाएँ पठनयोग्य हैं। अवश्य पढ़ूँगी कल। सादर एवं सस्नेह आभार मुझे इस विशेषांक का हिस्सा बनाने हेतु.....

    जवाब देंहटाएं
  11. शुरू से आखिर तक शानदार ,मौन पर विविध दृष्टिकोण देती सार्थक सुंदर रचनाएं अंत में सापेक्षिक प्रश्र, सुंदर संकलन सुंदर प्रस्तुति।
    सभी रचनाकारों को बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  12. एक से बढ़कर एक बेहतरीन रचनाएँ ,भूमिका से समापन तक लाजबाब प्रस्तुति ,सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनाएं एवं सादर नमस्कार

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...