निवेदन।


समर्थक

बुधवार, 20 नवंबर 2019

1587..आँगन को टेढ़ा क्यूँ कहें...


।। भोर वंदन ।।
" नये-नये विहान में

असीम आसमान में

मैं सुबह का गीत हूँ!

मैं गीत की उड़ान हूँ
मैं गीत की उठान हूँ
मैं दर्द का उफान हूँ
मैं उदय का गीत हूँ
मैं विजयका गीत हूँ
सुबह-सुबह का गीत हूँ
मैं सुबह का गीत हूँ! "
              धर्मवीर भारती

चलिए अब..अगहनी विहान के साथ चुनिंदा लिंकों पर नज़र डालें..✍
💎💎




नाच गर आए न तो आँगन को टेढ़ा क्यूँ कहें
क्यूँ कहें तलवार की सी धार है ये ज़िन्दगी..
💎💎

ऐसे ही कुछ लम्हे, कुछ किस्से रोज़-मर्रा के जीवन में भी आते हैं जो किसी भी अपने की यादों को ताज़ा कर जाते हैं .... कुछ
💎💎



उस वक्त मैं कितना ,
खुशनसीब था,
जो तेरा दिख जाना ,
भी कितना हसीन था।
मोहब्बत तो करते थे
बादशाहों वाली,..
💎💎


कर रही है खुशगवार
रातरानी की यह मादक महक
मुझको...
लदी हुई हैं शाखें
कोमल उजले सफेद फूलों से,
खिल उठते हैं हममिजाज़ मौसम में
गुंचे गुलों के
बिना किसी इंतजार..
💎💎




कई बार जो जहर हम दोनों ने साथ-साथ पीया,
चंद रोज की अनबन में तुमने जमाने को उगल दिया.
💎💎
हम-क़दम का नया विषय
यहाँ देखिए
💎💎
।। इति शम ।।
धन्यवाद
पम्मी सिंह 'तृप्ति'..✍

7 टिप्‍पणियां:

  1. मैं गीत की उड़ान हूँ
    मैं गीत की उठान हूँ
    मैं दर्द का उफान हूँ
    मैं उदय का गीत हूँ
    मैं विजयका गीत हूँ
    सुबह-सुबह का गीत हूँ
    व्वाहहहह...
    लाजवाब...
    सादर...

    जवाब देंहटाएं
  2. भूमिका में शानदार पँक्तियाँ
    सराहनीय प्रस्तुतीकरण

    जवाब देंहटाएं
  3. बेहद प्रेरक शिक्षाप्रद पंक्तियाँ भूमिका की।
    अगहनी विहान मन भा गया।
    सभी सूत्र बेजोड़ हैं।
    सुंदर सुगढ़ प्रस्तुति पम्मी जी।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर संकलन,बेहतरीन रचनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...