निवेदन।


समर्थक

शनिवार, 6 जुलाई 2019

1450.. ऋण

अंक जोड़ियेगा तो कितना आयेगा = 1. पंचम वर्ष की मेरी प्रथम प्रस्तुति

ब्लॉग पाँचवें वर्ष में प्रवेश कर गया
और
चुका नहीं सकते हम पाठकों का



राकेशधर द्विवेदी|
Author
वैसे तो दोनों का नाम
'श' से प्रारंभ होता था
एक शोषित वर्ग का प्रतिनिधित्व करता था

और दूसरा शोषक वर्ग का।



 यहाँ (बंबई में) कई दोस्त मिले जिनके साथ अच्छी-बुरी गुजरी।
कृष्ण चंदर, भारती, कमलेश्वर, जो शुरू ही में ये न मिल गए होते
तो बंबई में मेरा रहना असंभव हो जाता।
शुरू में मेरे पास कोई काम नहीं था 
और बंबई में मैं अजनबी था। 



मुद्द्त्तो  के  बाद  मिली 
पलक्षिण  को  समेट  तो  लू,
शाद  ने  भी 
शाइस्तगी  से ताकीद  की,
हम  न  आएगे  बार - बार.. 



भूल गए उनके कष्टों को ,
जीवन जिसने दांव लगाया‌।
 घृणा और द्वेषो॑ का साया ,
सबके मन में अभी भी छाया।।


jalwagah-com-kavita-ka-rinn

जिस समय जलवागाह की नींव डाली जा रही थी;
वो शायद मेरा न्यूनतम बिंदु था। हर प्रकार के संपर्क और सम्बन्ध
मैंने यथासंभव समाप्त कर डाले थे और जीवन की सार्थकता को
लेकर ख़ुद से तर्क-वितर्क मेरा प्रिय दैनिक मनोरंजन होता जा रहा था।

><
उऋण होने की कोशिश रहेगी
एक बार फिर चलते-चलते
अठहत्तरवें विषय की बात
विषय
किताब
उदाहरण
किताबें करती हैं बातें
बीते ज़मानों की
दुनिया की, इंसानों की
आज की, कल की
एक-एक पल की
ख़ुशियों की, ग़मों की
फूलों की, बमों की
जीत की, हार की
प्यार की, मार की
क्या तुम नहीं सुनोगे
इन किताबों की बातें?

अंतिम तिथि- 06 जुलाई 2019
प्रकाशन तिथि- 08 जुलाई 2019
प्रविष्टियाँ सम्पर्क फार्म द्वारा ही स्वीकार्य


17 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात...
    गलतफेमिली हो गई थी भाई कुलदीप जी से..
    सुधर गई..
    सदा की तरह अप्रतिम प्रस्तुति...
    मातृ-पितृ ऋण तो आमरण लदा रहता है मानव जीवन में..हमारे नर्क-गमन के उपरांत ये ऋण बच्चों पर लद जाता है..
    सादर नमन..

    जवाब देंहटाएं
  2. बेहतरीन रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई

    जवाब देंहटाएं
  3. सुप्रभात !
    बेहतरीन और लाजवाब संकलन दी !

    जवाब देंहटाएं
  4. हमेशा की तरह अनूठी प्रस्तुति.. सराहनीय संकलन बहुत अच्छी रचनाएँ हैं।

    जवाब देंहटाएं
  5. एक विषय पर सुंदर संकलन, मेरी रचना को शामिल करने के लिए तहेदिल से शुक्रिया।

    जवाब देंहटाएं
  6. 1450 अंक की हार्दिक शुभकामनाएं ,सबको सादर नमस्कार

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह अनुपम चयन एवम प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  8. शानदार प्रस्तुति करण लाजवाब लिंक संकलन...

    जवाब देंहटाएं
  9. बेहतरीन एवं सुंदर रचनाों का संकलन।बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं
  10. बेहतरीन एवं सुंदर रचनाों का संकलन।बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति 👌
    सादर

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...