निवेदन।


फ़ॉलोअर

बुधवार, 10 जुलाई 2019

1454..किसी खास के लिए..


।।प्रातः वंदन।।

देखो, अम्बर से धरती पर
ऊषा हँसती आ रही उतर।
स्वर्णिम आभा की कांतिमयी
किरणें कण-कण पर फूट रहीं,
कलियाँ, सुमनावलियाँ हँस-हँस
सौन्दर्य स्वर्ग का लूट रहीं॥
शशि की संगिनि यह रूप देख
मुँह छिपा रही लज्तित हो कर..


1916-1998
स्मृतिशेष  द्वारिकप्रसाद माहेश्वरी

चलिए उजास भरी प्रभाती के साथ लिंकों पर नजर डालते है..✍
✳️



आँखों से निकली बातें
यहाँ  वहाँ बिखरी बातें
अफवाहें, झूठी, सच्ची 
फ़ैल गईं कितनी बातें
मुंह से निकली खैर नही..

✳️


बचपन में बादलों को दिखाकर
माँ बोलतीं,
'ठाकुर, ओखाने थाके '
यानि ठाकुर जी वहाँ रहते हैं ।
हवाई जहाज में
बैठकर,
ठाकुर जी कई बार दिखें ..

✳️

My Photo
साथ परिन्दों का कब, तक?
छूट जाना होता है।
पंख खुले तो फिर इक दिन,
उड़ जाना होता है।।
खुशी के पल 


✳️


तुम संबल हो, तुम आशा हो,
तुम जीवन की परिभाषा हो।
शब्दों का कुछ अर्थ न होता,
उन से जुड़ के तुम भाषा हो।

✳️


खुल गया कोरा हमारे प्यार का!...कवि केदारनाथ सिंह
आज कवि केदारनाथ सिंह का जन्‍म दिन है। केदार नाथ सिंह आज की युवा पीढ़ी पर
अपनी गहरी छाप छोड़ते हैं। अपनी पूरी रचनात्मकता के साथ एक गहरा प्रतिरोध का
स्वर भी उनकी कविता में किसी न किसी रूप में मौजूद रहता है।

✳️


तेरी ज़ुल्फ़ें हैं या
बरसात की काली घटाएं
तेरी पेशानी है या
बर्फीली चट्टानें
तेरे अबरू हैं या
तेज़ कटारी या खंजर
तेरी आँखें हैं या
कोई  गहरी झील या
कोई मैखाना..


✳️
हम-क़दम का नया विषय
यहाँ देखिए
✳️

।।इति शम।।
धन्यवाद
पम्मी सिंह 'तृप्ति'..✍

16 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात...
    बेहतरीन आगाज..
    रचनाएँ भी जानदार...
    सादर...

    जवाब देंहटाएं
  2. स्मृति शेष को नमन
    सुंदर प्रस्तुतीकरण

    जवाब देंहटाएं
  3. अत्यंत सुंदर सूत्रों से सजा खूबसूरत संकलन ।

    जवाब देंहटाएं
  4. अति सुंदर प्रस्तुति, मनभावन रचनाओं के चयन हेतु आदरणीया पम्मी जी को शुभकामनाएं ।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर सूत्र संकलन। आभार...

    जवाब देंहटाएं
  6. वाह!!बेहतरीन प्रस्तुति !

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर प्रस्तुति पम्मी जी मोहक पंक्तियों कसे शुरूआत
    अच्छे लिंकों का संयोजन सभी रचनाकारों को बधाई

    जवाब देंहटाएं
  8. भूमिका की सुंदर पंक्तियों के साथ बहुत सुंदर रचनाओं का सुंदर संकलन तैयार किया आपने पम्मी जी आज के अंक में..बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं
  9. बेहतरीन प्रस्तुतिकरण उम्दा लिंक संकलन....

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत ही अच्छे लिंक्स।
    आनंद आ गया।

    जवाब देंहटाएं
  11. वाह!!बेहतरीन प्रस्तुति !

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...