पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 10 अक्तूबर 2016

451..अनदेखा ना हो भला मानुष कोई जमाने के हिसाब से जो आता जाता हो

सादर अभिवादन

माता श्री विदा होने को है
अश्रुओं की धार 

थमने का नाम ही ले रही
...तसल्ली दे रही है माँ
बीस दिनों के बाद फिर आ रही हूँ मैं
महालक्ष्मी का रूप धर कर

खील-पताशे..बाजे-गाजे से स्वागत करना मेरा
वास करूँगी घर में तेरे..


चलिए चलते हैं आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर...

पहली बार..

सोचती हूँ इक रोज.....सालिहा मंसूरी
सोचती हूँ इक रोज
तुमसे मिलकर,
तुम्हें सब कुछ बता दूँ
तुम्हें बता दूँ- 


मै कल ही,
अपने एक मित्र से मिला
पेशे से वह बीमा एजेंट है,
मिलते ही उसने
बीमा की रपट लगायी |

प्रकृति की शोभा....मालती मिश्रा
यह अरुण का दिया
ला रहा विहान है,
रक्त वर्ण से मानो
रंगा हुआ वितान है।
पवन मदमस्त हो चली
झूमकर लहराती गाती,


ज़माने ने कोशिश बहुत की उड़ाने की
हम वो परिंदे थे जो पिंजरे में बंद थे
कभी तो गुजारिश नवाजिश से महकेगी
वरना ज़िन्दगी तनहा तो कट ही रही है


माया से काया है
काया ने सब जुटाया है
मुझे तुमसे
तुम्हें मुझसे मिलवाया है

इस समुदाय के अनुसार  शरीर से आत्मा के निकलने के बाद वो एक खाली बर्तन है, जिसे सहज के रखने की जरुरत नहीं है. इसलिए वे लोग इसे आकाश में दफ़न कर देते है. इसे sky burial कहा जाता है.

दूसरी बात जो तिब्बत के लोग मानते हैं कि शवों को दफनाने के बाद भी कीड़े मकोड़े ही खा जाते है और इसलिए गिद्धों को खिला देते है.

एक साल पहले....
खुद भी चैन से रहना 
और रहने देना हो ‘उलूक’ 
आदत हो पता हो 
आदमी के अंदर से 
आदमी को निचोड़ कर 
ले आना समझ में आता हो 
अनदेखा ना होता हो 
भला मानुष कोई भी 
कहीं इस जमाने में 
जो किताबों से इतर 
कुछ मंत्र जमाने के 
हिसाब के नये 
बताता हो समझाता हो ।

आज्ञा दें यशोदा को..
फिर मिलेंगे..





9 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात
    रामनवमी की हार्दिक शुभकामना
    बहुत सुंदर हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आज कहां से रामनवमी आ गई विरम भाई
      हाँ.... कल दशहरा ज़रूर है
      सादर

      हटाएं
  2. सुन्दर सोमवारीय अंक । आभारी है 'उलूक' सूत्र 'अनदेखा ना हो भला मानुष कोई जमाने के हिसाब से जो आता जाता हो' को चर्चा में स्थान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. Hello !
    Welcome to the "Directory Blogspot"
    We are pleased to accept your blog in the division: INDIA
    with the number: 513
    We hope that you will know our website from you friends,
    Invite your friends by giving them the "Directory award"
    This is the only way to expand the site.
    The activity is only friendly
    Important! Remember to follow our blog. thank you
    Have a great day
    friendly
    Chris
    For other bloggers who read this text come-register
    http://world-directory-sweetmelody.blogspot.fr/search/label/Asia%20India%20_______________513%20%20%20Members
    Imperative to follow our blog to validate your registration
    Thank you for your understanding
    ++++
    Get a special price "Directory award" for your blog! with compliments
    Best Regards
    Chris
    A pleasure to offer you a degree for your site
    http://nsm08.casimages.com/img/2015/04/22//15042212171618874513195366.png

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति, मेरी रचना को शामिल करने के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर प्रस्तुति, मेरी रचना को शामिल करने के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...