पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 28 सितंबर 2016

439..पागलों के साथ कौन खड़ा होना चाहता है ?

सादर अभिवादन

लिखना तो कुछ चाहती हूँ
पर..लिखना कहना
नक्कारखाने की तूती

सुनेगा कौन
...
आज की पढ़ी सुनी रचनाएँ...


"दिनभर की भाग-दौड़ में.. 
उग आते हैं.. 
नाराज़गी के छोटे-छोटे फ़ाये.. 
बनते-बिगड़ते काम में.. 
झुलस जाते हैं.. 
मासूमियत के प्यारे साये.. 

आइये, सुबह ५ बजे उठकर, नजदीक के पार्क में, अपने आपको फिजिकल एक्टिव बनाने का प्रयत्न शुरू करें ! हलके हल्के दौड़ते हुए, 
खुलते, बंद होते फेफड़े, शुद्ध ऑक्सीजन को शरीर में पम्प करते, 
शरीर का कायाकल्प करने में पूरी तौर पर सक्षम हैं !
विश्वास रखें ये सच है ...

सुनो !!
कुछ नया गढ़ूं?
नया विस्तार पाने की एक कोशिश
क्यों? है न संभव?

हरे पेड़ और
मिट्टी की खुश्‍बू
से ज्‍यादा
रेलगाड़ी की पटरि‍यों सी
जिंदगी
अच्‍छी होती हैं......।


टूट जाएगा मिरा दिल गर अधूरी रह गयी

आप के तर्ज़े तकल्लुम से तो लगता है यही
रह गयी बाक़ी अभी कुछ सरगिरानी और है


एक साल पहले ..
हिम्मत सच के 
लिये खड़े होने 
के लिये हर कोई 
सच को झूठा 
बनाना चाहता है 
‘उलूक’ के साथ 
कोई भी नहीं है 
ना होगा कभी 
पागलों के साथ 
खड़ा होना भी 
कौन चाहता है । 
......
इज़ाज़त चाहती है यशोदा







5 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात
    सादर प्रणाम
    बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति ।
    एक से एक अच्छी लिंकों का चयन

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर बुधवारीय हलचल अंक। आभारी है 'उलूक' सूत्र 'पागलों के साथ कौन खड़ा होना चाहता है' को आज की चर्चा का शीर्षक देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर हलचल प्रस्तुति विरम सिंह

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...