पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

सोमवार, 26 सितंबर 2016

437.....रहम कर अक्षरों पर

सादर अभिवादन
...
कुछ लोग कहते हैं
क्या कर लोगे तुम लोग
हम तो करते जा रहे हैं
और करते रहेंगे
हमले पर हमले
हत्या पर हत्या
और तुम लोग
मीटिंग के अलावा
भर्स्तना ही तो करोगे

बस बहुत हो गई लिखा-पढ़ी
...
चलिए चलते हैं आज के लिंक्स की ओर....


अभी-अभी

चक्रव्यूह....संगीता स्वरुप
चक्रव्यूह -
लहर का हो या हो मन का
धीरे - धीरे भेद लिया जाता है
और चक्रव्यूह भेदते ही
धीरे -धीरे हो जाता है शांत
मन भी और समुद्र भी .





हिला-हिला धीमे पत्तों को 
पेड़े इशारा करके बोला 
‘उड़ जा चिड़िया‚ 
उड़ जा चिड़िया उड़ जा मेरे सिर से चिड़िया’ 
'देखें क्या कर लोगे मेरा' 
फुदक–फुदक कर ऐंठी बैठी 
चीं–चीं–चीं कर बोली 


शादी का जोड़ा.........रेवा
उसे हाँथ मे लेकर
सहलाया
ह्रदय से लगाया तो
एक क्षण मे
बाबुल का आँगन
याद आ गया....
माँ की एक एक
सीख
पिता का दुलार






तुमने ही तो बताया था 
ये कल-युग है द्वापर नहीं  
कृष्ण बस लीलाओं में आते हैं अब
युद्ध के तमाम नियम
दुर्योधन के कहने पर तय होते हैं
देवों के श्राप शक्ति हीन हो चुके हैं




मिले ग़म से अपने फ़ुर्सत तो सुनाऊँ वो फ़साना| 
कि टपक पड़े नज़र से मय-ए-इश्रत-ए-शबाना| 




न पाया कुछ
न खोने को है कुछ
काहे का डर

खाली है जेब
खाली दिल दिमाग
खाली मकान



अँधेरा है, अँधेरा है,
बेहद अँधेरा है।
घुप अँधेरे ने
सारी सृष्टि को
अपने जाल में / जंजाल में
धर दबोचा है,

पुराने कागज पर नए अक्षर..

बख्स भी दे 
अच्छा नहीं है 
उछल कूद 
कराना 
इतना ज्यादा 
दुखने लगे 
हैं जोड़ 
ऊपर से लेकर 
नीचे तक 
.....
आज्ञा दें
यशोदा को..
1957 का एक गीत याद आ गया आज

आप भी सुनिए..






10 टिप्‍पणियां:

  1. सस्नेहाशीष संग सुप्रभात छोटी बहना
    बढ़िया लिंक्स सजा

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर लिंक्स आज की हलचल में ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद यशोदा जी ! आभार आपका !

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छा लग रहा है बढ़ती टिप्पणियाँ देख कर । सुन्दर प्रस्तुति । आभार यशोदा जी 'उलूक' की एक पुरानी बकवास 'रहम कर अक्षरों पर' को स्थान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. यशोदा जी , सुन्दर प्रस्तुति । मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय दीदी
      सादर चरणस्पर्श
      मुझे भी अच्छा लगा
      आप आई यहा पर
      सादर अनुरोध आपसे
      आप आइए , यहाँ
      एक दिन आपके नाम कर देती हूँ
      सादर
      यशोदा

      हटाएं
    2. मेरा भी अभिवादन स्विकार करें। आदरणीय दीदी।
      आप अगर पांच लिंकों का आनंद पर अपने स्नेह की वर्षा करेंगे तो हम सब को अच्छा लगेगा। पर आप की चर्चाकारा के रूप में हम सब को प्रतीक्षा है।

      हटाएं
  5. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर प्रस्तुति यशोदा दीदी

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...