पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

रविवार, 25 सितंबर 2016

436.....लोग सब जुट जाऐंगे

  सुप्रभात 
सादर प्रणाम 
रविवारीय चर्चा मे 
आज सीधे चलते है लिंको की 
ओर




ग्राम छोटा सा 
जीवंत लोग वहां 
मस्ती में जीते |

चौपाल पर 
शाम ढले आजाते 
भजन गाते |


     "डोर"
तेरे से बंधी मन की डोर
कई बार मुझे
तेरी ओर खींचती है

जी चाहता है
तेरी गलियों के फेरे लगाऊँ
जाने-पहचाने चेहरे देख मुस्कराऊँ




         ग़ज़ल "लोग जब जुट जायेंगे तो काफिला हो जायेगा"
लोग जब जुट जायेंगे, तो काफिला हो जायेगा
आम देगा तब मज़ा, जब पिलपिला हो जायेगा

पास में आकर कभी, कुछ वार्ता तो कीजिए
बात करने से रफू शिकवा-गिला हो जायेगा



कुछ फोड़
कुछ मतलब 
कुछ भी 
फोड़ने में 
कुछ लगता 
भी नहीं है 
नफे नुकसान 
का कुछ 
फोड़ लेने 
के बाद 
किसी ने 
कुछ सोचना 
भी नहीं है 
फोड़ना कहीं 
जोड़ा और 
घटाया हुआ 
दिखता भी 
नहीं है



शहीदों को जिगर में अपने जगाकर तो देखो
कहानी उनकी, उनको सुनाकर तो देखो

सुना दो उनको अमर उन्हीं की कहानी
कहानी जो आँखों में लाती है पानी
पानी नहीं है ये है आँसू की धारा
स्मृति की झिरती हो जैसे अमृत की धारा
रोती है माता और रोती है बहना

••●●♤♡♢♧●●●●●●●■•

अब दिजिए 
विरम सिंह सुरावा 
को आज्ञा 
धन्यवाद

9 टिप्‍पणियां:

  1. आप की चुनने की आदत बहुत सशक्त है |बहुत सुन्दर पसंद आपकी :
    मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत आभार |

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर रविवारीय अंक हलचल का । आभार विरम जी 'उलूक' के सूत्र 'तू भी कुछ फोड़ना सीख ‘उलूक’ ....' को जगह देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. "पाँच लिंकों का आनन्द" में मेरी रचना शामिल करने के लिए हार्दिक आभार!! संकलन में शामिल अन्य रचनाएँ बेहद पसन्द आईं ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हम लोग बचपन में गिट्टी फोड़ खेलते थे, हमारे नेता किस्मत फोड़ खेलते हैं और हमारा उलूक विचार फोड़ खेलता है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सबने लिखा
    मैने पढ़ा
    चयन के मामले में
    मंजते जा रहे हैं विरम जी
    जितना पढ़ेंगे..उतना ही अछा लिखेंगे भी
    सादर

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...