पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शनिवार, 24 सितंबर 2016

435 .... यात्रा




यथायोग्य सभी को
प्रणामाशीष

हर की पौड़ी
हर बार नया अनुभव
अभी हम यहाँ हैं

आप आनंद लें .... दूसरों के यात्रा वर्णन का



ई हालत में जब ‘दुख ने दुख से बात की’ तब ऊ लड़की को समझ में आया
कि ऊ फरसाण बेचने वाला गूँगा है. ऊ लगभग रोते हुये उसको इसारा से बताई
 कि उसका ई दुनिया में कोई नहीं है. एक मिनट सोचने के बाद ऊ गूँगा
उसको अपने साथ अपना घरे ले गया अऊर अपना माँ को सब बात बताया.
 ऊ लड़की रोते हुये अपना पूरा कहानी बताई.
बूढ़ी माँ उसको अपना गले से लगा ली



इसी बीच एक आदमी भीड़ का फायदा उठाते हुए
पिताजी के ज़ेब में हाथ डालकर उनका पर्स चुराने की कोशिश करने लगा
पर भीड़ में धक्का लगने से उसके हाथ से पर्स निचे गिर गया ।
मैंने पर्स उठाकर पिताजी को दिया और उस जेबकतरे से अवगत करवाया ।
फिर तो अन्य यात्रियों ने मिलकर उसको जमकर सबक सिखाया,
अगले स्टेशन पर उस जेबकतरे को पुलिस के हवाले कर दिया ।




नदी, पहाड़, झरने, तालाब, समुद्र, आकाश, पंछी, हवा ये सभी प्रकृति के अंग हैं
और मुझे ये काफी हद तक प्रभावित करते हैं। हवा कम हो चुकी थी
अब मैं भी बिलकुल तैयार था किसी नये नजारे को देखने के लिए
और उसमें से कुछ अच्छाईयां ग्रहण करने के लिए।
 या यूं कहें अपनी मां की गोद में जाने के लिए।



पर क्यों ऐसे जाना पसंद करते है,
पसंद करते है या उनकी मजबूरियाँ है,
या उनके अपने लोगों से जो दूरियाँ है,
उसी दूरी को मिटाने के लिए इतना दर्द सहते है,
यह उनके प्यार को दर्शाता है,
की आदमी परेशान तो होता है,
पर जनरल यात्रा करने से नही घबराता है.


पहले जब भी जाता तब सेकेंड क्लास स्लीपर में होता था,
 मगर इस बार मैं सेकेंड क्लास ए.सी. में था.. मुझे एक एक करके
सारे अंतर पता चल रहे थे जो मैं पहले बस दूसरों के
अनुभव से ही जान पाता था.. स्लीपर में जहां गरमी और पसीने कि
 बदबू होती थी वहीं यहां ए.सी. का सूकून था.. मगर जहां स्लीपर में
एक अपनापन होता था वहीं यहां आत्मकेन्द्रित लोग थे
जो ऐसा लग रहा था जैसे अपने ही अहम में सिमटे जा रहें हों..




सच ही किसी ने कहा है – जितना हम प्रकृति के करीब रहते हैं,
उतना ही संस्कृति से, अपनी जड़ों से जुड़े होते हैं औऱ जितना हम
प्रकृति से कटते हैं, उतना ही हम खुद से और अपनी संस्कृति से भी दूर होते जाते हैं।
रास्ते का यह विचार भाव रांची पहुंचते-पहुंचते सघन हो चुका था
 और स्टेशन से उतर कर महानागर की भीड़ के बीच मार्ग की
 सुखद अनुभूतियाँ धुंधली हो चुकीं थीं।






फिर मिलेंगे .... तब तक के लिए

आखरी सलाम

विभा रानी श्रीवास्तव 




3 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    यात्रा विशेषांक जम के पसंद आया
    कमोबेसी सब के साथ
    यही कुछ तो होता है
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. यात्रा वृतांत की लिंक प्रस्तुति बहुत अच्छी लगी .. धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...