पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

मंगलवार, 13 सितंबर 2016

424...अनादिकाल से सूर्य ओम (ॐ )का जाप कर रहा है

जय मां हाटेशवरी...


एक बेटी ने  अपने पिता से  एक  प्यारा सा सवाल किया कि पापा ये आंगन मे जो पेड़ है  उसे पिछे वाले बगीचे मे लगा दे तो ?   पिता असमंजस मे  और बोले बेटी ये चार साल पुराना पेड़ है नई जगह , नई मिट्टी मे ढल पाना मुश्किल होगा ।  तब बेटी ने जलभरी आंखो से पिता से सवाल किया कि एक पौधा और भी तो है  आपके आंगन का जो बाईस बरस पुराना है क्या वो नई जगह पर ढल पाएगा ?
पिता बेटी की बात पर सोचते हुए कहा कि यह शक्ति पुरी कायनात मे सिर्फ नारी के पास ही है जो कल्पवृक्ष से कम नही है । खुद नए माहौल मे ढलकर  औरो कि सेवा करती है । ताउम्र उनके लिए जीती है
अब देखिये मेरी पसंद के कुछ चयनित लिंक....

अनादिकाल से सूर्य ओम (ॐ )का जाप कर रहा है
इसी भागवद पुराण के बारहवें स्कंध के ग्यारहवें अध्याय के श्लोक छ :,सात और आठ में भगवान के विश्वरूप का बखान करते हुए कहा गया है :ये पृथ्वी भगवान के चरण (पैर, पाद )आकाश उसकी नाभि (navel ),सूर्य उसके नेत्र ,वायु उसकी नासिका के छिद्र (nostrils ),सृष्टि करता देव उसके प्रजनन अंग ,मृत्यु उसकी गुदा ,तथा चन्द्रमा उसका मस्तिष्क हैं।
आकाशीय ग्रह उसका मस्तक  (Head )  हैं . दिशाएं उसके दोनों कान हैं तथा विभिन्न ग्रहों के रक्षक देवगण उसकी भुजाएं हैं। मृत्युदेव उसकी भवें (eyebrows ), शर्म (शर्मोहया)  उसका निचला होंठ तथा लोभ उसका ऊपरवाला औष्ठ (होंठ ) हैं। माया (delusion , God's illusory energy ) उसकी मुस्कान तथा चांदनी उसकी
मुक्तावली (teeth ) है। वृक्ष उसके शरीर का रोम (bodily hairs )  हैं ।  मेघ  उसकी  केशराशि हैं ।
अन्यत्र कई उपनिषदों में कहा गया है -वह कान भी कान है (श्रवण का भी श्रवण है )आँख की भी आँख है ,वाणी का सम्भाषण वही है। वही है जो मन को सोचने की क्षमता देता है जिसके द्वारा मन सोचता है विचार सरणी पैदा करता है। अनादिकाल से सूर्य ओम (ॐ ) का जाप कर रहा है

तो मैंने भी सोंचा ...
तो मैंने भी सोंचा
एक कोशिश हम भी कर लें
लोगों को जोड़ के देख लें !!

उन आँखों की अनकही....!!!
मुझे पता था ये नजरे मैंने तुमसे नही,
बल्कि अपनी जिंदगी से फेर रही हूँ...
तब से आज तक...
मैं उन आँखों की अनकही सुनने के लिए,
बेचैन हो भटकती रही हूँ...!!!

..वो आज भी लाचार हैं ...
हाँ , यह तय है की इस तरह की सोच वाले इस खुड -पेंच के चलते ज़िन्दगी भर न जाने किस झूठ के सहारे जीते है , दूसरों की ज़िन्दगी के साथ ये अपनी ज़िंदगी भी बर्बाद करते है। ये भूल जाते है की इनकी अपनी भी बेटियां हैं। भविष्य में इनके साथ भी यह हो सकता है। हालाँकि ये सामाजिक बुराई कोई नई नहीं। बस , दो दिन पहले की घटना से अजीब सा लगा। ..पर आज भी जो सभ्य , सच्चे अर्थों में शिक्षित लोग है वो इसके विपरीत है।
..और ऐसे ही लोग ज़िन्दगी को खुद भी जीते है और दूसरों को भी जीने देते है। क्योंकि शादी-ब्याह के समय जो लोग सिर्फ लड़के वाले होने के कारण लड़की , लड़की वालों का अपमान करने में कोई कसर नही छोड़ते , ज़िन्दगी में खुद भी कभी सम्मान नही पा सकते। .....ईश्वर करे ,इनके यहां कभी शादी-ब्याह न हों। रहें अपनी अकड़ के साथ।

बेपेंदी का लोटा-लघुकथा
“सच कहते हैं सर, जब उपस्थिति बन चुकी है तो जाने देना उचित नहीं| आप नियमानुसार ही काम करें,” दिनकर बाबू की यह बदली बदली भाषा देखकर सभी एक दूसरे का मुँह देखने लगे| जाते जाते सबने सुना,” पेंदी को जाँचे बिना विरोध...हहहहहह”

हमें अपनी संस्कृति को बचाना है ....!!














जो संरक्षण.... हम स्त्रियॉं   को समाज से मिला था ,वही संरक्षण आज समाज को ही  देने का समय आ गया है |समाज के लिए कुर्बानी देने का फिर वक़्त आ गया है |इस बार नारी को ही आगे आना है | |पुनर्जीवित करने हैं वो संस्कार जो क्षीण हो रहे हैं |संस्कारों की उर्वरक से विस्तार देना है प्रेम को ,रिश्तों को जो खोखले होते
जा रहे हैं ....!! आज सोचना है स्वतन्त्रता का अर्थ क्या है ?
नारी के लिए क्या हर बंधन तोड़ना स्वतन्त्रता है ... या उसी बंधन की सीमा में रहकर  स्वयं को निखारना और देश व समाज के लिए कुछ सार्थक करना स्वतंत्रता है.…… !!


आज बस इतना ही...
कल 14 सितंबर है...
यानी हिंदी चर्चा दिवस...
कल भी वोही होगा,  जो हर बार होता है...
 पर हम तो लगे हुए  हैं...
आप की लिखी हिंदी रचनाओं को...
अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने में...
इस लिये हमारे लिये तो हर दिन ही...
हिंदी दिवस ही है...
धन्यवाद।















7 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति कुलदीप जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बहुत शुक्रिया , ..' पांच लिंकों का आनंद' के आज के चुनिंदा पांच लिंक में मेरे लिखे को शामिल किया गया .

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैं उन आँखों की अनकही सुनने के लिए,
    बेचैन हो भटकती रही हूँ...!!!
    वाह!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैं उन आँखों की अनकही सुनने के लिए,
    बेचैन हो भटकती रही हूँ...!!!
    वाह!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ..

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...