पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

सोमवार, 12 सितंबर 2016

423..‘उलूक’ का बुदबुदाना समझे तो बस बुखार में किसी का बड़बड़ाना है

सादर अभिवादन
भगवान गणेश का अंतिम सत्र
पितृ-पक्ष..दशहरा..दीपावली
देखते ही देखते लगभग
.......पूरा निगल गया
साल सत्रहवें ने.........
साल सोलहवें को

देर नहीं लगती.....हम भी बढ़ चलें आगे

आज पहली बार तिरछी नजर.. 
अगर तालीम से, पीछा छुड़ा पाओ, तो उल्फ़त हो,
गुनहगारों में, अपना नाम कर पाओ, तो उल्फ़त हो.

अगर अन्त्याक्षरी में, मात दे पाओ, तो उल्फ़त हो,
पहनकर शेरवानी, शेर कह पाओ, तो उल्फ़त हो.

आज पहली बार साहित्य शिल्पी... 
बदली छायी...डॉ. महेन्द्र भटनागर
सहधर्मी / सहकर्मी
खोज निकाले हैं
दूर-दूर से
आस-पास से
और जुड़ गया है
अंग-अंग
सहज
किंतु / रहस्यपूर्ण ढंग से


जियो तो ऐसे जियो.........साधना वैद
चाँदी से बाल
झुर्रीदार चेहरा
मीठे ख़याल
गुदगुदाती हँसी
बचपन कमाल !


मैं सेकेण्ड की सूई की तरह 
तेज़-तेज़ घूमता रहता हूँ,
पर हर बार ख़ुद को वहीँ पाता हूँ,
जहाँ मंथर गति से घूमनेवाली 
मिनट और घंटे की सूइयां होती हैं.


दुनिया देखी लाेग देखे।
राक्षस देखे फ़रिश्ते देखे।

रिश्ते देखे दोस्त देखे।
हर कही पर मिलावट देखी।



देशभक्तों ने किया खाली,खजाना देश में !
धनकुबेरों को बिका, शाही घराना देश में !

बेईमानों और मक्कारों की छबि अच्छी रहे,
जाहिलों पर मीडिया का,मुस्कराना देश में !


एक साल पहले की रचना
जो अधिक नहीं पढ़ी गई

छोटी सी बात 
घुमा फिरा कर 
टेढ़े मेढ़े पन्ने पर 
कलम को भटकाना है 
हिंदी का दिन है 
हिंदी की बात को 
हिंदी की भाषा में 
हिंदी के ही कान में 
बस फुसफुसाना है 
आशा है आशावाद है .
........................
इज़ाज़त दें यशोदा को
फिर मिलते हैं


10 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज की हलचल में बहुत सुन्दर सूत्र समायोजित किये हैं यशोदा जी ! मरी रचना को स्थान देने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुप्रभात
    सादर प्रणाम
    सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति हेतु धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. शुभप्रभात...
    सुंदर संकलन....

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर प्र्स्तुति । आभार यशोदा जी 'उलूक' को सम्मान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. उलूक हिंदी दिवस और हिंदी पखवाड़े की प्रतीक्षा कर रहा है. कुछ नया कहने को कुछ बचा तो नहीं है, वही भारतेंदु का 'निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल' गा दिया जाएगा और कुछ विद्वान अल्लामा इक़बाल के क़ौमी तराने की 'हिंदी हैं, हम वतन हैं, हिन्दोस्तां हमारा' दोहरा देंगे, वो भी बिना यह जाने हुए कि इक़बाल ने 'हिंदी' शब्द हमारी अपनी 'हिंदी भाषा' के सन्दर्भ में नहीं बल्कि 'हिन्द अर्थात हिंदुस्तान के बाशिंदों के सन्दर्भ में प्रयुक्त किया था.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर लिंक्स. मेरी कविता शामिल की. शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...