पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शनिवार, 7 मई 2016

295 ...... मैं बिलकुल तेरे जैसा हूँ





सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

किसी ने सच कहा  .....
अगर जिंदगी में आगे अपनी बढ़ना है, तो 
अपनी लकीर बड़ी करने की कोशिश करें, 
ना कि दूसरे की लकीर को मिटाकर छोटा करने की






बिना रीढ़ वाले ये 
जामुनी अँधेरे - से ,
आर - पार घिरे हुए 
सम्भ्रम के घेरे - से ,
       धरती की साँसों की 
       गुँजलक में बँधे हुए ,
       आते है सागर की 
       सुधियों से लदे - फँदे






जीवन की कठिन राह पर मैं  
जब हँसते हँसते चल देता हूँ    

लोगों की कडवी बातों को मैं
जब हँसते हँसते सुन लेता हूँ
तब सब मुझसे कहते है माँ 







सोचा ना था के इतनी शिद्दत से चाहूंगी तुझे कभी ,
सोचा ना था के इतनी शिद्दत से सजदा करूंगी तेरा कभी। 
तू साथ है तो लगता है के हीर गुम से अजाद हुँ मै।
सोचा ना था के तेरे आगोश में खुद को इतना महफूज पाऊंगी कभी।







आरती की लय,घंटियों में मिल
बजाती है मानो विदाई की शहनाई
बाबुल के गले से लिपटी
बिटिया के गहने फफक फ़फ़क के
गुंजा देते हैं गांव के चौबारे
उतर आये हैं,मेंहदी के सुर्ख रंग
बाबुल की आँखों में
कि लाड़ो बिसरा चली
अंगना बाबुल का






हरिवंश राय बच्चन ने क्या खूब लिखा है- 
‘’मदिरालय जाने को घर से निकलता है पीने वाला,
किस पथ पर जाऊं असमंजस में है वह भोला-भाला,
अलग-अलग पथ बतलाते सब, पर मैं यह बतलाता हूं,
राह पकड़ तू एक चला चल, पा जाएगा मधुशाला।‘’



फिर मिलेंगे ...... तब के लिए
आखरी सलाम

विभा रानी श्रीवास्तव

4 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    अच्छी रचनाएँ पढ़वाई आपने
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरी रचना शामिल करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...