निवेदन।


फ़ॉलोअर

मंगलवार, 4 जून 2019

1418...बकवास अपनी कह कह कर किसी और को कुछ कहने नहीं देते हैं

स्नेहाभिवादन !
आपके प्रिय साहित्यिक ब्लॉग पर कुछ रचनाओं के सूत्र
आपके समक्ष प्रस्तुत हैं --
पूर्व दिशा की अरूणोदय लालिमा और पक्षियों के
कलरव की मनमोहक गुंजन के साथ ---
आज की प्रस्तुति हमारी प्रथम प्रस्तुति है सारी गलतियाँ हमारी और शाब्बाशी हमारी टीम की है

ये रिश्ते ....
हल्की सी ठेस तोड़ जाती पल में काँच से रिश्ते कटु वचन छुईमुई से सच्चे शर्मिन्दा रिश्ते गुस्से की आँधी टहनी से झरते फूलों से रिश्ते

निराले जग के  परदों में छुपी यह बात सारी है
कहीं पर आग भारी  है कहीं पानी की बारी है

तराशे जाता जो पलछिन , सजाता  है कभी उसको
किसी मिट्टी की मूरत का वही सच्चा पुजारी है

दूसरे दिन हम 'थिम्फू' के दर्शनीय स्थलों को देखने गये, उससे पूर्व सुबह जल्दी उठकर होटल की दायीं ओर प्रातः भ्रमण के लिए निकले. यहाँ पैदल चलने वाले यात्रियों के लिए काफी चौड़े मार्ग बने हैं, जिसपर सुबह-सुबह कुछ लोग दौड़ भी रहे थे ।

आकाशमुखी
हैं सभी
मुक्त
द्वार, पिंजर एकाकी,
उन्मुक्त जीवन
सभी चाहें, हम,
तुम हों या
पाखी।

मिट्टी
जितना सोखती है
धूप अपने भीतर
उतनी ही सोंधी होती है
उसकी महक

बहुत कुछ है

लिखने के लिये
बिखरा हुआ

समेटना
ठीक नहीं
इस समय

रहने देते हैं

होना
कुछ नहीं है
हिसाब का

बेतरतीब
ला कर
और
बिखेर देते हैं
-*-*-*-*- अब बारी है विषय की चौहत्तरवें अंक का विषय विषय
उजाला उदाहरण..
न कोई मीत मिले तो फ़क़ीरी कर ले जलती शमा को बुझा के जुदाई सह ले मिलती नहीं खुशियाँ तन्हाई जब होती स्याह रातों में ग़मों से फिर दोस्ती कर ले लोग ऐसे भी हैं उजाले में नहीं दिखते आज़माएँ उनको भी ग़र अँधेरा कर ले रचनाकार-श्री शशि गुप्त शशि
-*-*-*-*-
मेरा परिचय

मैं मीना भारद्वाज
जन्म और उसके बाद अध्ययन अध्यापन में जीवन का 
अधिकांश समय पिलानी (राजस्थान) में ही बीता । फिलहाल 
अपने  परिवार सहित निवास स्थान बैंगलुरु (कर्नाटक) है । 
फुर्सत के पलों की रिक्तता भरने में किताबों से अधिक 
गहरा मित्र भला कौन हो सकता है ? किताबों की दुनिया 
मुझे बेहद प्रिय है । शैली चाहे गद्य हो या पद्य लिखना और 
पढ़ना मेरे जीवन का अटूट हिस्सा है जो 
मुझे पूर्णता प्रदान करता है ।

मीना भारद्वाज



हम अपने "ब्लॉग पाँच लिंकों का आनन्द" में
आपका स्वागत करते हुए उनके 
उज्जवल भविष्य की कामना करते हैं

उनका लेखन स्वस्थ और सुन्दर हो



17 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात...
    उव्ववाहहहह...
    बेहतरीन प्रस्तुतिकरण..
    शुभकामनाएँ.. सू-स्वागतम्
    सादर...

    जवाब देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात !
    आपके भावभीने स्वागत और शुभकामनाओं का हृदय की गहराईयों से आभार...
    पाँच लिंकों का आनन्द के सम्पूर्ण परिवार का भी हृदयतल से सादर आभार ।

    जवाब देंहटाएं
  3. बेहतरीन प्रस्तुति सभी चयनित रचनाकारों को बहुत बहुत बधाई

    जवाब देंहटाएं
  4. इस नयी चर्चाकारा की भूमिका के लिये बधाई एवम शुभकामनाएं मीना जी और आभार 'उलूक' की बकबक को शीर्षक में देकर सम्मानित करने के लिये।

    जवाब देंहटाएं
  5. स्व परिचय के साथ सुंदर लिंकों का चयन बहुत बहुत बधाई मीना जी चर्चाकार के रूप में आपका हृदय तल से स्वागत ।
    भुमिका में आपके अकिंचन के भाव आप को और भी उत्कृष्टता प्रदान करते है ।
    शानदार प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं
  6. आज के अंक में शामिल सभी साथियों को बधाई . सभी रचनाएं बेहतरीन हैं .. उलूक टाइम्स तो समय का रुझान बताता ही रहता है ...

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्दर एवं मनभावन प्रस्तुति मीना जी ! आपकी शैली मन को लुभा गयी ! सुन्दर रचनाओं का चयन किया आपने ! मेरी रचना को इस अंक में सम्मिलित करने के योग्य समझा हृदय से आभारी हूँ ! आपका बहुत बहुत धन्यवाद !

    जवाब देंहटाएं
  8. आपका हार्दिक स्वागत और बधाई मीना जी। पहली बार में ही आप बहुत सुंदर प्रस्तुति लेकर आई हैं। 'हलचल' के गौरवपूर्ण मंच से जुड़ना अपने आप में एक उपलब्धि है।

    जवाब देंहटाएं
  9. बेहतरीन रचनाएं सभी।बधाइयां

    जवाब देंहटाएं
  10. सुस्वागतम मीना दी।
    बहुत सुंदर और सुगढ़ प्रस्तुति है सराहनीय संयोजन है।
    प्रथम प्रस्तुति की बधाई और मेरी अशेष बधाई स्वीकार करें।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  11. प्रिय सखी मीना जी, हार्दिक अभिनंदन है आपका पांच लिंकोकी चर्चाकारा के रूप में। ये नयी भूमिका आपके लिए अत्यंत शुभता भहो और इसके माध्यम से आप यश अर्जित करे ,मेरी यही दुआ और कामना है। इस मंच से हम पाठकों की गहरी भावनायें जुडी हैं। इससे जुड़ना अपने आप में गर्व की अनुभूति करवाता है आज के सभी रचना कारों को हार्दिक बधाई। आपको एक बार फिर बधाई। शुभकामनाओ के फूल आपके लिए। 💐💐🌹🌹🌹💐🌹💐💐इसके साथ मेरा प्यार। 😊😊

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका सनेह और शुभकामनाएं अनमोल हैं रेणु जी हृदयतल से आभार 🙏🙏 आपके स्नेह ने यह अवसर दे दिया कि मैं आपके साथ मंच के सभी आदरणीय सदस्योंं के उत्साह वर्धन का हृदय की गहराईयों से शुक्रिया अदा करती चलूं...आप सबका हौसलाअफजाई के लिए अत्यंत आभार🙏🙏

      हटाएं
  12. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं



  13. प्रिय मीना जी ,शशि भाई ने उनकी रचना से
    हम कदम का नया विषय लेने के लिए यशोदा दीदी और पाँच लिंको को हार्दिक आभार भेजा है । वे गम्भीर रूप से अस्वस्थ हैं,सो ब्लॉग से दूर हैऔर यहाँ उपस्थित होने में असमर्थ हैं। उनकी रचना का लिंक भी खुल नहीं पा रहा। कृपया ध्यान दें।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. शशि भाई जल्द स्वस्थ्य हों यह कामना करती हूँ । पहले मैं ब्लॉग से संबंधित समस्या समझ नही पाई थी लेकिन अब समझ गई कि रचना का लिंक नही खुल रहा... मैं प्रातः सखी यशोदा जी तक आपका संदेश प्रेषित करती हूँ ।

      हटाएं
  14. वाह !बहुत ही सुंदर प्रस्तुति मीनाजी। बेहतरीन रचनाओं का संगम । आपकी पहली प्रस्तुति के लिए आपको हृदय तल से बधाई। निरंतर तरक्की की ओर अग्रसर हों ।विशेष शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...