निवेदन।


फ़ॉलोअर

मंगलवार, 31 जुलाई 2018

1110....काश नगर में बगुले ना होते

जय मां हाटेशवरी.....
मन-मोहक लगता है ये सावन.....
हर तरफ भोले की जय-जयकार होती है.....
प्रत्येक घर देवालय बन जाता है.....
ये क्रम प्रत्येक महिने.....
कभी शिवरात्रि के रूप में....
कभी नवरात्रों के रूप में.....
कभी दिवाली, कभी दशहरा.....
कभी एकादशी, कभी पूर्णिमा, कभी संक्रांति......
नयी-नयी उत्तेजना, प्रेरणा तथा संकल्पों के साथ.....
जहां हमे धर्म-परायण बनाता है.....
हमे जीवन कैसे जीना चाहिये.....
मानव-जीवन का उदेश्य क्या है....
...ये भी सिखाता है.....
ये प्राचीन परंपरा ही.....
घर के बच्चों में संस्कारों का संचार करती है.....
पर हम आज अपनी इन पावन परंपराओं को छोड़कर.....
....
विदेशी संस्कृति को अपना रहे हैं...
इसी लिये हमारे बच्चों के संस्कारों में भी कमी आ रही है.....
रेप, चोरी-डकैती, भ्रष्टाचार तेजी से बढ़ रहा है....
हम क्या थे.....क्या हो गये हैं....
भारत-भारती की इन पंक्तियों ने सब कुछ कह दिया है....
अब पेश है.....
आज के लिये मेरी पसंद.....


तू पत्थर सी मूरत बन जा
सीता का दुख और द्रोपदी अपनी महक लिए है।
जितना भी तपता है सोना उतनी चमक लिए है।
वैसे जूझ, बसो यादों में, सबके लिए मुहुरत बन जा।।
कल की एक जरूरत बन जा। तू पत्थर सी मूरत बन जा।।


भूलोगे कैसे
कुछ गीत मेरे, यूं दोहराओगे तुम,
सूने नैने छलक आएंगे,
कोयल, रुक-रुककर गाएंगे,
जलाएंगे, मन व्याकुल कर जाएंगे....


सीमाओं में कहाँ बँधा है
लिए हाथ में श्रम की लाठी
रच लेते ये नव परिपाटी
सपने आसमान के लेकिन
पाँव तले रहती है माटी
अपनी कूवत से कर लेते
सात समंदर पार
गगन के जाना जिनको पार


सावन
बहनें राह देख रहीं
भाई के आने की
साथ साथ रक्षाबंधन
मनाने की प्यार बांटने की |


हम धुंए के बीच तेरे अक्स को तकते रहे ...
बिजलियें, न बारिशें, ना बूँद शबनम की गिरी
रात छत से टूटते तारों को हम गिनते रहे
कुछ बड़े थे, हाँ, कभी छोटे भी हो जाते थे हम
शैल्फ में कपड़ों के जैसे बे-सबब लटके रहे
उँगलियों के बीच इक सिगरेट सुलगती रह गई
हम धुंए के बीच तेरे अक्स को तकते रहे



इतवारनामा: बच्चे बड़े होते हैं, माएं नहीं
मातृत्व एकतरफा पगडंडी है, चलते जाना होता है, रुकने का मन भी करे तो भी. मैं किताबों के पन्ने पलटने लगती हूं, अब समय सरपट दौड़ेगा.
“कुछ शॉपिंग भी की या बुक स्टोर ही गए”, बच्चे देखते ही पूछते हैं.
मैं चोरी पकड़ी जाने वाली नज़र से उन्हें देखती हूं. साथ-साथ ही तो चल रहे थे इनके, फिर भी बराबर रास्ता कहां तय पाए? ये तो बड़े भी हो गए..और मां?


काश नगर में बगुले ना होते
ज्ञान की तलाश प्रकाश है
और प्रकाश की तलाश में भटके हुए
कुछ गिने चुने लोग है
अब आप की बताओ साहब, कि 'इतने' से लोग
दीपक की टिमटिमाहट से जग को रौशन कर पायेंगे !

अब बारी है साप्ताहिक विषय की
हम-क़दम 
सभी के लिए एक खुला मंच
आपका हम-क़दम का तीसवाँ क़दम 
इस सप्ताह का विषय है
'ख्वाब'
...उदाहरण...
रात कली एक ख्वाब में आई और गले का हार हुई
सुबह को जब हम नींद से जागे आंख उन्हीं से चार हुई

चाहे कहो इसे मेरी मोहब्बत, चाहे हंसी में उड़ा दो
ये क्या हुआ मुझे, मुझको खबर नहीं, हो सके तुम्हीं बता दो
तुमने कदम तो रखा ज़मीन पर, सीने में क्यों झनकार हुई
फिल्मः बुढ्ढा मिल गया
https://youtu.be/jFYlChHSdzo

उपरोक्त विषय पर आप को फिल्मी गीत चुनना है
गीत के बोल की चार पंक्तियाँ तथा वीडियो का लिंक देना है
यदि कोई इस विषय पर कविता देने को इच्छुक है तो
स्वागत है, यह क़दम तनिक मनोरंजक भी होगा ऐसा हमारा मानना है 

अंतिम तिथिः शनिवार 04 अगस्त 2018  
प्रकाशन तिथि 06 अगस्त 2018  को प्रकाशित की जाएगी । 

रचनाएँ  पाँच लिंकों का आनन्द ब्लॉग के 

सम्पर्क प्रारूप द्वारा प्रेषित करें




आने वाला समय सब के लिये मंगलमय हो......
ये सावन सब के लिये खुशियां लाए.....
बारिश से कहीं भी तबाही न हो.....
पाकिस्तान की नयी सरकार शांती-प्रीय हो.....
आतंकवाद मुक्त विश्व के सपने को साकार करने वाली हो.....
इसी कामना के साथ.....
मिलेंगे.....अगले मंगलवार को.....

धन्यवाद।








15 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात भाई
    सुन्दर प्रस्तुति
    आभार
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  2. सराहनीय प्रस्तुतीकरण
    आज 31 जुलाई प्रेमचंद जयंती
    इक रचना उनकी भी होती तो श्रद्धा के फूल अर्पित हो जाते

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय दीदी
      सादर नमन..
      आज की विविधा देखिए
      सादर

      हटाएं
  3. आज की इस बेहतरीन प्रस्तुति में मेरी रचना को भी स्थान देने हेतु हृदयतल से आभार

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति। हमकदम के लिए गीत को चुनना अच्छी पहल है। हो सकता है कई लोग एक ही गीत के लिंक भेज दें। कोशिश हो कि जो गीत बहुत ज्यादा चर्चित नहीं रहे या अपने समय की याद दिलाते हैं ऐसे गीतों को चुना जाय ताकि स्मृतियों से बिसर रहे गीतों से फ़िर रूबरू होने का मौका मिले।
    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सम्भावना से इन्कार नहीं
      पर इतने गाने हैं ध्यान में है अभी
      सादर

      हटाएं
  5. सुप्रभात ...
    भावभीनी हलचल ... बहुत से नए लिंक ... आभार मेरी ग़ज़ल को आज यहाँ जगह देने के लिए ...

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति कुलदीप जी।

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह!!बहुत सुंदर प्रस्तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  9. आदरणीय कुलदीप जी सारगर्भित भूमिका के साथ बेहद उम्दा रचनाओं का शानदार संकलन है आज के अंक में।
    सादर आभार आपका।

    जवाब देंहटाएं
  10. आभार और तहे दिल से शुक्रिया !

    जवाब देंहटाएं
  11. अच्छी भुमिका के साथ शानदार संकलन सभी रचनाऐं बहुत सुंदर ।
    सभी रचनाकारों को बधाई ।

    जवाब देंहटाएं
  12. हमकदम के लिए गीत भेजने का प्रस्ताव अच्छा है। मनोरंजक होगा और सबकी पसंद भी पता चलेगी। सुंदर संकलन है किंतु देरी से पढ़ पाई। सादर।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...