निवेदन।


फ़ॉलोअर

शनिवार, 28 जुलाई 2018

1107... उलझन



सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

आसाढ़ में सूखा पड़ा तो चिंता
सावन में बारिश शुरू हुई तो चिंता


Image result for उलझन कविता
उलझन

कविता के लिए वक्त निकालना
आपाधापी भरी जिंदगी में कुछ पल
अपने लिए तलाशना है
कविता एक चाहत है ,
अनुभूतियों को आयाम देना ,
शब्दों से खेलना और बातें करना है.
पर और भी बहुत कुछ है
करने के लिए जिंदगी में वक्त कम

Image result for उलझन कविता

उलझन

समझदार हो गया हूँ या अभी कुछ नादानी बाकी है !
बेखबर हूँ खुद से मगर लगता है अब सुलझन में हूँ !!

जिंदगी की कशमकश में मशगूल कुछ इस तरह है !
बना बहाना वक़्त का अपनों से दूर बिछडन में हूँ !!

Image result for उलझन कविता

उलझन

इश दुनियाँ (परिवार) में दीप न जलता , तो लगता है आया काल |
काल रूपी जब दीप जला तो , खुशियाँ बनती है जौजाल ||

जब खुशियाँ उठती है ऊपर , तो आते है काल का छाँव |
इश छाँव में जल जाते है , ऊपर -ऊपर के ही पाँव ||


Image result for उलझन कविता

उलझन

अब बस हुआ, अब बस करो मुझको नही रहना यंहा,
अब बस हुए ये दर्द और उलझन भरी ये ज़िन्दगी।

जाने दो मुझको दूर, ये सब नही मेरे लिये,
चाहूँगी उसको उम्र भर पर वो नही मेरे लिए।


Image result for उलझन कविता

उलझन

वक़्त के दरख़तों पर यादें कईं कईं है,
कुछ पड़ी धुँधली कुछ यादें नयी नयी है,
आशाओं के पुलिंदे फिर भी बांधता है इंसान,
कुछ समझ नहीं आता,
क्या चाहता है इंसान |


Image result for उलझन कविताफिर मिलेंगे...


हम-क़दम 
सभी के लिए एक खुला मंच
आपका हम-क़दम का उन्तीसवाँ क़दम 
इस सप्ताह का विषय है
'किस्मत'
...उदाहरण...
मानना होगा इसे और
करना होगा संतोष
क्योंकि - वक्त से पहले और
किस्मत से ज्यादा नहीं मिलता
किसी को भी, कभी भी कुछ।

किस्मत भी बनाना पड़ता है -
सदैव कर्मरत रहकर।
कर्मों का यही हिसाब देता है
हमको वह फल, जो आता है
इस लोक और परलोक में
दोनों ही जगह काम।
-देवेन्द्र सोनी

उपरोक्त विषय पर आप सबको अपने ढंग से 
कविता लिखना है.....

आप अपनी रचना शनिवार 28 जुलाई 2018  
शाम 5 बजे तक भेज सकते हैं। चुनी गयी श्रेष्ठ रचनाऐं आगामी सोमवारीय अंक 30 जुलाई 2018  को प्रकाशित की जाएगी । 
रचनाएँ  पाँच लिंकों का आनन्द ब्लॉग के 
सम्पर्क प्रारूप द्वारा प्रेषित करें



14 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय दीदी
    सादर नमन
    सदा की तरह विलक्षण प्रस्तुति
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  2. सुप्रभात दी,
    सदा की भाँति अनूठी प्रस्तुति। उलझन पर सुंदर रचनाएँ पढवाई आपने।
    सादर आभार दी।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    अब उलझन भरी भी तो
    नहीं कह सकते हैं :)

    जवाब देंहटाएं
  4. सुप्रभात दी...काफी दिनों बाद आज दोबारा पढ़ने बैठ गई, वहीं शानदार अहसास हुआ जिसे छोड़ आई थी.. खूबसूरत रचनाएं ताजगी से भरी हुई.. बधाई आपको!!

    जवाब देंहटाएं
  5. वाह ..बेहतरीन प्रस्तुति
    उलझन संग सहेली जैसी
    अच्छी और बुरी भी

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर उलझन विशेष पर प्रस्तुति
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी प्रस्तुति । चयनित रचनाकारों को बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह!!खूबसूरत प्रस्तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  9. एक ही विषय पर भिन्न भिन्न विचारों का सुंदर संकलन, शानदार प्रस्तुति।
    सभी रचनाकारों को बधाई ।

    मन तार है उलझे उलझे
    एक तार सुलझा ना पाई
    भँवर जाल मे ऐसी उलझी
    तल तक जा फिर ऊपर आई
    ना हाथों मे मोती आये
    हीरे सा चैन गवाँ आई ।

    जवाब देंहटाएं
  10. चाहूँगी उसको उम्र भर पर वो नही मेरे लिए।
    बहुत अच्छी प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति..

    जवाब देंहटाएं
  12. ज़िंदगी की उलझन पर अलग-अलग नज़रिया प्रस्तुत करती विचारणीय प्रस्तुति. सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनायें.

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...