पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 14 फ़रवरी 2018

943..बसंती बेला में ...






।।शुभ वन्दन।।




ऋतुओं का बदलना स्वाभाविक है

 पर बसंती बेला में आज का दिन 

काव्यात्मक और अध्यात्म का

 अनूठा संगम है। ये भी 

सही है कि..

वक्त कितना भी बदल जाए

 पर इंसान का मशीनीकरण अब भी मुश्किल..

तव्वजों  हम आज भी भावनाओं, अपेक्षाओं और आत्मिक आन्नंद की अनुभूति की ही करते हैं। 
तरीका  महाशिवरात्रि की आराधना हो या

आधुनिक इजहार-ए-मोहब्बत की..
इस विषय पर यहीं थमते हुए बढतें हैं
चर्चा  की ओर जो
 आज के लिंक में शामिल है ..✍

ब्लॉग मुखरित मौन से..


ख़ुशबू
साँसों से नहीं जाती है जज़्बात की ख़ुशबू

यादों में घुल गयी है मुलाकात की ख़ुशबू

चुपके से पलकें चूम गयी ख़्वाब चाँदनी

तन-मन में बस गयी है कल रात की ख़ुशबू





ब्लॉग  कौशल  से..




''गूंजे कहीं शंख कहीं पे अजान है ,

बाइबिल है ,ग्रन्थ साहब है,गीता
 का ज्ञान है ,

दुनिया में कहीं और ये 
मंजर नहीं नसीब ,

दिखलाओ ज़माने को ये हिंदुस्तान है .''

ऐसे हिंदुस्तान में जहाँ आने वाली  
पीढ़ी के लिए आदर्शों की स्थापना और प्रेरणा यहाँ के मीडिया का पुनीत उद्देश्य 
हुआ करता था .स्वतंत्रता संग्राम के 




ब्लॉग .नई क़लम - उभरते हस्ताक्षर से खूबसूरत रचना..
यूँ तो हर पेड़ पे डालें हज़ारों है निकली

टूट के कोई पत्ता जो गिर जाये तो तेरी याद आये

कितने फूलों से गुलशन है ये बगिया मेरी

भंवरा इनपे जो कोई मंडराये तो तेरी याद आये




ब्लॉग चिकोटी से..व्यंग्यात्मक रचना...





मेरा नाम 'ए' से होने के बावजूद मेरी कोशिश यही रहती थी कि क्लास में मैं चौथी या छठी बैंच पर ही बैठूं। बैठता भी था। इसके दो फायदे मुझे मिल जाया करते थे: पहला, टीचर की निगाह मुझ पर आसानी से नहीं पड़ती थी। दूसरा, याद न करने के कारण टीचर को 



ब्लॉग उम्मीद तो हरी है से..





कपास के जंगल से उड़कर

असुंदर,रंगीन गुदगुदा गोला 

युद्धरत आदमियों के बीच गिरा

झुर्रीदार चमड़ी और 

धधकती आंखों ने 
सजाकर, संवारकर
सहमे सिसकते बच्चों के बीच बैठा दिया
बच्चों ने अपनाया, पुचकारा और बहुत चूमा

ब्लॉग मन पाए विश्राम जहाँ से..



कैसे कहूँ उस डगर की बात
चलना छोड़ दिया जिस पर
अब याद नहीं
कितने कंटक थे और कब फूल खिले थे
पंछी गीत गाते थे

जाते - जाते 
रिश्तों का मौसम में रिश्तों को सहेज रखना..

।।इति शम ।।
धन्यवाद
पम्मी सिंह..✍

चलिए अब बारी है हम-क़दम के 
छठवें क़दम की ओर
हम-क़दम 
सभी के लिए एक खुला मंच
आपका हम-क़दम छठवें क़दम की ओर
इस सप्ताह का विषय है
:::: खलल ::::
उदाहरणः
रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता हैं 
चाँद पागल हैं अंधेरे में निकल पड़ता हैं 

मैं समंदर हूँ कुल्हाड़ी से नहीं कट सकता
कोई फव्वारा नही हूँ जो उबल पड़ता हैं 

कल वहाँ चाँद उगा करते थे हर आहट पर
अपने रास्ते में जो वीरान महल पड़ता हैं 

ना त-आरूफ़ ना त-अल्लुक हैं मगर दिल अक्सर
नाम सुनता हैं तुम्हारा तो उछल पड़ता हैं 

उसकी याद आई हैं साँसों ज़रा धीरे चलो
धड़कनो से भी इबादत में खलल पड़ता हैं
-राहत इंदौरी

आप अपनी रचना शनिवार 17  फरवरी 2018  
शाम 5 बजे तक भेज सकते हैं। चुनी गयी श्रेष्ठ रचनाऐं आगामी सोमवारीय अंक 19 फरवरी 2018  को प्रकाशित की जाएगी । 
इस विषय पर सम्पूर्ण जानकारी हेतु हमारे पिछले गुरुवारीय अंक 
11 जनवरी 2018  का अवलोकन करें










12 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात सखी
    स्वाभाविक है
    बदलना...
    पर गए हुए की
    वापसी पर
    हम परेशान हैं
    लगातार तीन दिनों से
    रायपुर में
    बारिश हो रही है
    पता नही...क्या होगा
    क्यों रो रहा है आसमान
    लगाइए नज़ूम
    बताइए हमें
    .......
    एक अच्छी प्रस्तुति सखी
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. लाजवाब प्रस्तुतिकरण उम्दा लिंक संकलन..

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुप्रभातम् पम्मी जी,
    बहुत सुंदर समसामयिक भूमिका के साथ सरहानीय प्रस्तुति आज के अंक की।
    सारी रचनाएँ बहुत अच्छी लगी। रचनाओं के इस गुलदस्ते में मेरी रचना को स्थान देने के अत्यंत आभार आपका।
    सभी साथी रचनाकारों को बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति पम्मी जी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. लाजवाब प्रस्तुतिकरण
    साथी रचनाकारों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रेम के इन्द्रधनुषी रंगों से सजी हलचल में मुझे शामिल करने के लिए शुक्रिया..सभी रचनाकारों को बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर प्रस्तुति, मुझे यहां स्थान दिया हार्दिक धन्यवाद पम्मी जी

    उत्तर देंहटाएं
  8. पम्मी जी लाजवाब प्प्रस्तु हर रचना अपने अंदाज मे शानदार
    सभी रचनाकारों क हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहतरीन सम सामयिक प्रस्तुति. आदरणीया पम्मी जी को बधाई. विविधता का कुशलतापूर्वक संयोजन परिलक्षित हो रहा है आज की प्रस्तुति में.
    इस अंक में चयनित सभी रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रिय पम्मी जी -- सुंदर लिंक संयोजन के बासंती मेला खूब रहा |प्रेम पर्व और महाशिरात्री का एक ही दिन आना आध्यात्मिक और सांसारिक प्रेम के अद्भुत संगम का संयोग है | सभी साहित्य मित्रों को हार्दिक शुभकामनाये और बधाई | आज के सभी चयनित रचनाकार बधाई के पात्र हैं | आपको हार्दिक बधाई और शुभ् कामनाएं | |

    उत्तर देंहटाएं
  11. खूबसूरत लिंक संयोजन ! बहुत सुंदर आदरणीया ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...