निवेदन।


समर्थक

मंगलवार, 13 फ़रवरी 2018

942.....धड़कनो से भी इबादत में खलल पड़ता हैं

सादर अभिवादन..
संशय है....
महाशिवरात्रि आज है कि कल
हिन्दुस्तान टाईम्स कहता है
महाशिवरात्रि पर्व इस बार दो दिन 13 व 14 फरवरी को होगा। 
दो दिनों में व्रत किस दिन किया जाए इसे लेकर श्रद्धालु असमंजस 
में हैं। ज्योतिषियों के अनुसार 13 फरवरी को प्रदोष के साथ 
मध्य रात्रि में चतुर्दशी भी है। ऐसे में 13 फरवरी को व्रत रखना 
अधिक फलदायक होगा।फाल्गुन के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि 
को महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है। 13 फरवरी मंगलवार 
को रात 10:22 बजे के बाद चतुर्दशी तिथि लग जाएगी जो 
अगले दिन 14 फरवरी की रात 12:17 बजे तक रहेगी।
हिमांचल में सुबह से बर्फ गिर रही है...
आज हमारे साथ चलिए.....


वहाँ न तो दिन होता है
न रात होती है,
न जश्न होता है
न बारात होती है..
प्रेम की गोदावरी
जहाँ बहती रहती है;

पार्क की बेंच पर बैठकर 
बातें करते हो मुझसे,
अपने स्कूल की कहानियाँ सुनाते हो,
मै मुस्कुराता हूँ तुम्हारी खुशी पर,
ललचाता हूँ

मैंने रिश्तों को बदलते देखा है
मजबूरी से नहीं,
जरुरतों के अनुरूप ढ़लते देखा है
मैंने रिश्तों को बदलते देखा है।

कुछ रिश्ते ताउम्र याद रह जाते हैं
बिन बाँधे ही हमसे जुड़ जाते हैं

कुछ रिश्ते ऐसे भी होते हैं
जो ज़िगर में अटके रह जाते हैं

छल, कपट, पाखंड का कुछ झूठे आभासों का है 
सारा जीवन चन्द चालों और कुछ पासों का है 

ये मोहब्बत के तकाज़े दोस्ती रिश्तों की डोर 
वहम है सारा फ़क़त, ये खेल विश्वासों का है 

तैरती इक लाश को देखा तो दिल ने ये कहा 
आदमी का कुछ नहीं बस बोझ तो साँसों का है 

क्या औरत 
मर्द का तराशा हुआ 
बुत है ? 
जिसे वो तराशता है 
चमकाता है 
अपनी मर्ज़ी से 
नुमाइश करता है 
.......
चलिए अब बारी है हम-क़दम के 
छठवें क़दम की ओर
हम-क़दम 
सभी के लिए एक खुला मंच
आपका हम-क़दम छठवें क़दम की ओर
इस सप्ताह का विषय है
:::: खलल ::::
उदाहरणः
रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता हैं 
चाँद पागल हैं अंधेरे में निकल पड़ता हैं 

मैं समंदर हूँ कुल्हाड़ी से नहीं कट सकता
कोई फव्वारा नही हूँ जो उबल पड़ता हैं 

कल वहाँ चाँद उगा करते थे हर आहट पर
अपने रास्ते में जो वीरान महल पड़ता हैं 

ना त-आरूफ़ ना त-अल्लुक हैं मगर दिल अक्सर
नाम सुनता हैं तुम्हारा तो उछल पड़ता हैं 

उसकी याद आई हैं साँसों ज़रा धीरे चलो
धड़कनो से भी इबादत में खलल पड़ता हैं
-राहत इंदौरी

आप अपनी रचना शनिवार 17  फरवरी 2018  
शाम 5 बजे तक भेज सकते हैं। चुनी गयी श्रेष्ठ रचनाऐं आगामी सोमवारीय अंक 19 फरवरी 2018  को प्रकाशित की जाएगी । 
इस विषय पर सम्पूर्ण जानकारी हेतु हमारे पिछले गुरुवारीय अंक 
11 जनवरी 2018  का अवलोकन करें


आज बस करते हैं
इज़ाज़त दें यशोदा को


8 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात दी,
    सच में बहुत असमंजस की स्थिति है सही तिथि को लेकर, समसामयिक भूमिका के साथ बहुत सुंदर रचनाओं का संयोजंन है दी। बहुत सुंदर आज का अंक।
    'खलल'पर लिखना चुनौतीपूर्ण होगा :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. सस्नेहाशीष संग शिवरात्रि की शुभकामनाएं
    उम्दा प्रस्तुतीकरण के संग सुंदर शब्द

    उत्तर देंहटाएं
  3. समसमायिक भूमिका के साथ सुंदर संकलन..
    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर समसामयिक प्रस्तुतिकरण उम्दा लिंक संकलन....

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंंदर रचनाओं का संयोजन । महाशिवरात्रि की शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर संकलन ! नया विषय पा गए हैं सब लोग... अब अगले कुछ दिनों दिमाग को खरल करके....खलबत्ते में कूट-काटकर खलल की खिचड़ी पकेगी....औरों का तो पता नहीं,मेरी तो पकेगी...क्या बनेगा ना जाने !
    सादर.....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर सूत्र संयोजन सुन्दर संकलन।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...