निवेदन।


फ़ॉलोअर

मंगलवार, 21 नवंबर 2017

858....अजीब से काम जब नजीर हो रहे होते हैं....

सादर अभिवादन...
आज हिमांचल प्रदेश में 
बारिश के साथ-साथ आँधी भी चल रही है
ऐसा भाई कुलदीप जी फोन पर बता रहे थे..
पहाड़ी इलाके में रहते हैं...
ये भी कह रहे थे इस बार त्रिशंकु की उम्मीद है
चलिए बगैर ताम-झांम के सीधे रचनाओं की ओर...

जनता 
तलाशती है 
तराशती है 
फिर सजाती है 
अपनी बाजी और 
जिताती है उसे

हम बुज़ुर्गों के चरणों में झुकते रहे
पद प्रतिष्ठा के संजोग बनते रहे

वो समुंदर में डूबेंगे हर हाल में 
नाव कागज़ की ले के जो चलते रहे

सुना -अनसुना 
कर
हर पल गुजरता 
क्या किस्सा 
कहे उनकी 
बेरुखी का ! 
उमर का
सफीना 
साहिल पे डूबा 
जमाना भी था 
तब दिल्लगी का ! 


यही खुशफ़हमियाँ मुझ को यहाँ तक खींच लाईं
तुम्हारे शहर में अब तक वही मन्ज़र मिलेँगे

न मंज़िल की खबर जिनको न राहों का पता है 
जिधर भी जाओगे तुमको वही रहबर मिलेंगे 

चले आना किसी दिन उसको अपना घर समझ कर 
तुम्हारे सब पुराने ख्वाब मेरे घर मिलेंगे 

पत्थर के शहर में शीशे का मकान ढूँढ़ते हैं।
मोल ले जो तन्हाईयाँ ऐसी एक दुकान ढूँढते हैं।।

हर बार खींच लाते हो ज़मीन पर ख़्वाबों से,
उड़ सके कुछपल सुकूं के वो आसमां ढूँढते है

कई सारे 
लोगों के 
मिलकर 
किये जा 
रहे कुछ 
अजीब से 
काम 
जब नजीर 
हो रहे होते हैं । 

आज के लिए बस..
दें आदेश
दिग्विजय..


Great Italian Motorbike Display
एक मिनट सत्रह सेकेण्ड








11 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभातम् आदरणीय सर,
    बहुत ही सुंदर रचनाओं का गुलदस्ता तैयार किया है आपने।बहुत सुंदर प्रस्तुति।
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए अति आभार आपका।
    सभी साथी रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाए।

    जवाब देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात
    त्वरित फैसला
    निसंदेह प्रशंसनीय
    आभार
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  3. सुप्रभातम। वाह वाह भाई जी आप का संकलन बेमिसाल है। आज यहां कमेंट लिखने से पहले सीधे रचनाओं पर चला गया कमेंट लिखने के लिए इतना आकर्षण है आज की रचनाओं में। और अंत में एक रोमांचकारी वीडियो। सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएं। आभार सादर।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत ही बेहतरीन संकलन
    सभी रचनायें बहुत अच्छी हैं

    जवाब देंहटाएं
  5. सुन्दर प्रस्तुति। आभार दिगविजय जी 'उलूक' की बकबक को हलचल के शीर्षक पर स्थान देने के लिये।

    जवाब देंहटाएं
  6. सुप्रभात ! खूबसूरत और रोचक संकलन
    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई
    आभार।

    जवाब देंहटाएं
  7. आक जी हलचल रचनाओं का लाजवाब गुलदस्ता है ...
    बहुत आभार मेरी ग़ज़ल को जगह देने के लिए ...

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी प्रस्तुति...
    खूबसूरत और रोचक संकलन...

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत उम्दा अंक सर। शानदार चयन। शानदार संकलन। सभी रचनाकार एकदम बढिया।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...