निवेदन।


फ़ॉलोअर

रविवार, 5 नवंबर 2017

842..प्रतीक्षा में हूँ उन सर्द हवाओं की जो मेरी अन्तरज्वाला को शांत करें ।

कल गुरुनानक जयन्ती सम्पन्न हुई
सन् दो हजार अट्ठारह की ओर अग्रसर हैं हम
माह नवम्बर में त्योहारों का हंगामा नही न बचा अब..
बचे हैं सीधे - सादे दिन और
कड़कती हुई ठण़्डी रातें...हाँ..
इन दिनों पेट की अग्नि तीव्र होती है...
जो खाते हैं पच जाता है...मेरी सहेली ज्योति जी 
बताएँगी इन दिनों क्या-क्या खाया जा सकता है
हाँ...घरेलू होने के नाते एक बात जरूर कहूँगी..
इन दिनों बड़ी,पापड़ इत्यादि भी बनाया जाता है
डॉक्टर्स इन दिनों को हेल्दी सीजन कहते हैं
काफी देर से आलाप ले रही हूँ.....
चलिए आज-कल में पढ़ी सुनी रचनाओं की तरफ...


मन की नमी...श्वेता सिन्हा
दूब के कोरों पर,
जमी बूँदें शबनमी।
सुनहरी धूप ने,
चख ली सारी नमी।
कतरा-कतरा
पीकर मद भरी बूँदें,
संग किरणों के, 
मचाये पुरवा सनसनी।




सरकारी रचनाकार...मन का उपज
माया..
सत्ता है 
सरकार की
और यही..
माया....पगला
देती है रचनाकार को
और..पगला रचनाकार
रचता कब है ! 

माँ...शालिनी कौशिक
माता जी ..माता जी ....नरेंद्र बाबू को बहुत चोट आयी है ,उन्हें कुछ लोग लेकर अस्पताल जा रहे हैं ....मैं भी जा रहा हूँ ....तू रुक ...जनार्दन को रोकते हुए कौशल्या देवी बोली ,मैं भले ही उसे बोझ लगती हूँ पर मेरे लिए मेरा बेटा  कभी बोझ नहीं हो सकता ,मैं आज भी उसे ठीक करने की ताकत रखती हूँ भले ही वह मेरी जिम्मेदारी से मुकर जाये ......आँख में आये आंसू पौंछती हुई कौशल्या देवी को जनार्दन ने सहारा दिया और कहा ..चलिए माता जी सच में आप सही कह रही हैं ,आप माँ हैं और माँ माँ ही होती है .


शाम नहीं बदलती कभी....रश्मि शर्मा
किसी और का नाम
कभी लिख नहीं पायी
वो वक़्त
अधूरा ही रहा जीवन में
कुछ के रास्ते बदल जाते हैं
कुछ की मंज़िले
मगर किसी-किसी की शाम
नहीं बदलती कभी ।



दिल.....पुरुषोत्तम सिन्हा
राख ही सही!
पश्चाताप की भट्ठी पर चढा,
बस इक बार ही जला,
अंतःकरण खिला......
स्वरूप बदल निखरा,
धुआँ सा गगन में उड़ा, पुनर्जन्म लेकर खिला।


मर्द हूँ, अभिशप्त हूँ...अपर्णा वाजपोई 
मै चुप रहता हूँ;जब मेरी मां 
ताना देती है मुझे 
अपने ही बच्चे का डायपर बदलने पर....
रात भर बच्चे के साथ जगती पत्नी 
कोसती है मुझे 
और मै कुछ नहीं करता; 
आज तक नहीं सीख पाया 
नन्हे शिशु को गोद में लेना, 

बोल, क्या नहीं तेरे पास ?....मीना शर्मा 
यह मनु-तन पाया
हर अंग बहुमूल्य,
सद्गुणों से बन जाए
तू देवों के तुल्य !
वाणी मणिदीप है,
तो बुद्धि है प्रकाश !!!

उलूक टाईम्स की पुरानी कतरन
प्रतीक्षा में हूँ
उन गरम
फिजाओं की
जो मेरे
ठंडेपन को
कुछ गरम करें ।

सदियों से
मेरी गर्मी
मेरी सर्दी
से राजनीति
कर रही है ।
........
अब बस
आज्ञा दें
यशोदा


17 टिप्‍पणियां:

  1. ढ़ेरों आशीष व असीम शुभकामनाओं के संग शुभ प्रभात छोटी बहना
    बड़ी पापड़ आपके बनायें तो हमें भी खाने हैं
    उम्दा लिंक्स चयन

    जवाब देंहटाएं
  2. शुभप्रभात आदरणीया दी,
    मौसम करवट ले रहा है।साल भी जैसे पंख लगाये उड़ गया मात्र महीनेभर बाद नया साल।
    बहुत सुंदर प्रस्तुति दी और सारी रचनाएँ बहुत अच्छी है।
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार दी।
    सभी साथी रचनाकारों को मेरी हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  3. सुप्रभात,
    दूब के कोरों पर,जमी बूँदें शबनमी।
    सुनहरी धूप ने,चख ली सारी नमी।
    कतरा-कतरा पीकर मद भरी बूँदें,
    संग किरणों के,मचाये पुरवा सनसनी।

    बहुत ही सुंदर प्रस्तुति। मेरी रचना को भी सम्मानित मिल करने के लिए आभार।
    सभी साथी रचनाकारों को मेरी भी हार्दिक शुभकामनाएँ।
    आभार यशोदा दीदी

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर संकलन ! सादर आभार मेरी रचना को पसंद करने हेतु...सभी रचनाकारों को सादर शुभेच्छा ।

    जवाब देंहटाएं
  5. सुंदर
    रचनाओं का निरंतर प्रकाशन। समारोह सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत उम्दा संकलन
    उम्दा रचनायें
    सभी रचनाकारों को बहुत बधाई

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्दर संकलन.....

    जवाब देंहटाएं
  8. आज की सुन्दर रविवारीय प्रस्तुति में 'उलूक' के पुराने पन्ने को जगह देने के लिये आभार यशोदा जी।

    जवाब देंहटाएं
  9. रोचक सार्थक और दिलकश रचनाओं से सजा आज का हलचल अंक बहुत लुभाया। सभी रचनाकारों को बहुत बधाइयाँ। शुभेक्षायें

    जवाब देंहटाएं
  10. sundar v sarthak links ,meri post ko sthan dene hetu hardik dhanyawad yashoda ji

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर प्रस्तुति..
    सभी रचनाकारों को बहुत बधाइयाँ
    आभार।

    जवाब देंहटाएं
  12. बढ़िया लिंक के लिए आभार आपका

    जवाब देंहटाएं
  13. आदरणीया, दीदी आज 'सुशील' जी की रचना बेहद प्रभावी लगी। आज का संकलन उम्दा सभी को बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  14. आज का अंक अलग-अलग अंदाज़ की रचनाओं का बेहतरीन संकलन है। पढ़ते-पढ़ते कई तरह के भाव उत्पन्न हुए। सभी रचनाऐं प्रभावी और सरस हैं। बधाई आदरणीया यशोदा बहन जी को। सभी रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाऐं। आभा सादर।

    जवाब देंहटाएं
  15. बहुत सुंदर ढ़ेरों शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  16. बहुत सुंदर ढ़ेरों शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  17. बहुत सुंदर प्रस्तुति। मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...