पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 8 जनवरी 2017

541.. फूल से नाराज़ होकर तितली सो गयी है

नमस्कार  दोस्तो
 सुप्रभात
कुछ  राज्यों  मे चुनाव  नजदीक है तो नेता लोग अपनी
अपनी दाल गलाने की कोशिश मे लगे हुए है । अब किसकी दाल गलेगी और किसकी  नही वो तो भविष्य के गर्भ मे छुपा हुआ है लेकिन नेता लोग अपनी दाल गलाने के लिए जिस प्रकार की भाषा और भाषण का उपयोग कर रहे है वो बहुत विचारणीय  प्रश्न है, कि क्या चुनाव  के  समय ऐसी बाते  की जानी चाहिए?  चुनाव  तो एक दो महीने  मे हो जाएगे  फिर तो अपने  गांव और अपने गांववालो के  साथ  रहना है । इसलिए  ऐसा कोई काम या ऐसा कोई शब्द  न कहे कि  फिर पछताना  पडे ।

अरे  भाई  मै भी क्या ज्ञान झाड़ने बैठ गया  । आप को इंतजार है आज की पाँच  लिंको  का  तो प्रस्तुत  है  आज की पाँच  बेहतरीन  लिंक. ......


 ऎसी क्या हो गई खता
नज़रों से उसको गिरा दिया
सम्हलने का अवसर न दिया
आइना उसे दिखा दिया
यदि एक मौक़ा भी दिया होता
मन में गिला न रह जाता


फूल    से  नाराज़   होकर   तितली   सो   गयी     है।

बंद     कमरों    की   ऐसी    हालत     हो   गयी     है।।

हो    गया     सायना    फूल    ज़माने    के    साथ।

मुरझाई    हैं    पाँखें     महक   भी   रो   गयी    है।।


कुछ मीठा हो जाए

              शिद्दत ...

गज़लों के लम्बे दौर से बाहर आने की छटपटाहट हो रही थी ... सोचा नए साल के बहाने फिर से कविताओं के दौर में लौट चलूँ ... उम्मीद है आप सबका स्नेह यूँ ही बना रहेगा ...

तुम्हें सामने खड़ा करके बुलवाता हूँ कुछ प्रश्न तुमसे ... फिर देता हूँ जवाब खुद को खुद के ही प्रश्नों का ... हालांकि बेचैनी है की बनी रहती है फिर भी ... अजीब सी रेस्टलेसनेस ... आठों पहर ...   

क्यों डूबे रहते हो यादों में ... ?
क्या करूं

संगठन की शक्ति – सबसे शक्तिशाली हथियार

“एकता का दुर्ग इतना सुरक्षित होता है कि इसके भीतर रहने वाले कभी भी दुःखी नहीं होते है |”आप ने कभी अंगीठी में जलते हुए कोयले देखा है ? सभी कोयले एक साथ मिलकर कितने तेजस्वी हो जाते है | पर आपने कभी सोचा है जो कोयला अंगीठी में इतना तेजस्वी है अगर उसमें से किसी एक कोयले को अंगीठी से बाहर निकाल कर रख दें तो उस कोयले का क्या हश्र होगा ? जी हां वह अकेला पड़ने पर राख हो जाएगा | इंसान के साथ भी कुछ ऐसा ही होता है |


अब दिजिये  आज्ञा 
विरम  सिंह  सुरावा 

9 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर लिंक्स ... आभार मुझे शामिल करने का ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर हलचल प्रस्तुति nh

    उत्तर देंहटाएं
  3. धन्यवाद वीरम सिंह जी मेरी रचना शामिल करने के लिए |

    उत्तर देंहटाएं
  4. Halchalwith5links मे मेरी रचना शमिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरी यह रचना आज मेरे ब्लॉग से अपडेट करते समय विलुप्त हो गयी है जोकि 7.01.2017 को प्रकाशित की गयी थी. ब्लॉग पर रचना पुनः प्रकाशित कर दी गयी है. पांच लिंकों का आनंद के 541 वें अंक में चयनित होने के कारण इसे यहाँ प्रकाशित कर रहा हूँ.

    फूल से नाराज़ होकर तितली सो गयी है।

    बंद कमरों की ऐसी हालत हो गयी है।।




    हो चला सयाना फूल ज़माने के साथ।

    मुरझाई हैं पाँखें महक भी रो गयी है।।




    नसीहत अब कोई हलक़ से नीचे जाती नहीं।

    दिल्लगी की प्यारी खनक अब खो गयी है।।




    आशियाँ दिलक़श बने जो तेरी शोख़ियाँ हों।

    ताज़ा हवा आँगन में बीज-ए -ख़ुलूस बो गयी है।।




    यादों के आगोश में बैठा हुआ है बोझिल दिल।

    एक मुलाक़ात मैल मन का मनभर धो गयी है।।

    - रवीन्द्र सिंह यादव

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...