पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शुक्रवार, 24 फ़रवरी 2017

588...........देश प्रेम देश भक्ति और देश

सादर अभिवादन
आज महा शिवरात्रि है
पर  शिवालय नही है आज इस पन्ने में 
हाँ,  सचित्र राम लीला जरूर है..
वो भी विदेशी
आप भी देखिए....



बाली में रामलीला....हर्षवर्धन जोग
बड़ी हिन्दू जनसँख्या और लम्बे समय तक हिन्दू राज रहने के कारण बाली में बहुत से मंदिर हैं और रामलीला का भी चलन है. निचले नक़्शे पर नज़र मारें तो समझ में आता है की भारत से बर्मा, थाईलैंड, इंडोनेशिया और आसपास के देशों में काफी व्यापार चलता होगा. इसी व्यापार के साथ साथ रामायण और महाभारत भी पहुँच गई होगी. रामायण यहाँ 'केचक रामायण' के नाम से प्रचलित है.
( इस ब्लॉग में काफी से अधिक चित्र हैं कृपया ब्लॉक का अवलोकन करें)


फ़िराक गोरखपुरी से क्षमायाचना के साथ,,,गोपेश जायसवाल
गरज़ कि काट दिए ज़िन्दगी के दिन ऐ दोस्त,
वो तलुए चाट के गुज़रे, कि दुम हिलाने में.



मोहब्‍बत के अशआर.... ऱश्मि शर्मा
चूमकर पेशानी एक रात कहा था उसने
जैसी जिंदगी वैसी तू भी अजीज है मुझको
दस्‍तूर-ए-दुनि‍या से नावाकि‍फ़ ए दि‍ल
खाकर हजार ठोकरें अब भी सच समझता है इसे।।



प्यार..........डॉ छवि निगम
हाँ भूल चुकी हूँ तुम्हें
पूरी तरह से
वैसे ही
जैसे भूल जाया करते हैं बारहखड़ी
तेरह का पहाड़ा
जैसे पहली गुल्लक फूटने पर रोना
फिर मुस्काना


भटकने का सुख मामूली नहीं होता...प्रतिभा कटियार
नींदे किसी गठरी में कैद हैं कि 
नींदों की कीमत पर जाग मिली है, 
दोस्तों का साथ मिला है, 
प्यार मिला है... 
सुबह पर मेरा 
कोई अख्तियार नहीं, 
रात पर है... 


शब्दों में कैसे ढल पाए 
मधुर रागिनी तू जो गाए,
होने से बनने के मध्य 
गागर दूर छिटक ही जाए ! 

बात पते की..डॉ. सुशील जोशी

माफ करियेगा ’उलूक’ 
जानता है तेरे शहर में 
तेरे मोहल्ले में तेरे घर में 
इस तरह के जलवे 
हो भी और नहीं भी 
हो रहे होते हैं 
लिखने दे बबाल ना कर 
मत बता मुझे मेरे हाल 
मुझे पता है तेरे जैसे 
ना हो सकते हैं ना होंगे 

आज्ञा दें यशोदा को

















4 टिप्‍पणियां:

  1. ढ़ेरों आशीष व असीम शुभकामनाओं संग शुभ दिवस छोटी बहना 😍💐
    उम्दा प्रस्तुतीकरण

    उत्तर देंहटाएं
  2. महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर बहुत बहुत शुभकामनायें ! सुंदर लिंक्स से सजी हलचल..आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. महाशिवरात्रि की शुभकामनाएं। आज की सुन्दर प्र्स्तुति में 'उलूक' के सूत्र 'देश प्रेम देश भक्ति और देश' को शीर्षक पर जगह देने के लिये आभार यशोदा जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर लिंकों के साथ अच्छी हलचल। महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...