पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 15 फ़रवरी 2017

579...हमारी किताबों में... वेलेंटाइन डे पर कोई निबंध क्यों नहीं है...


जय मां हाटेशवरी...

कल एक 8 वर्ष के लड़के ने मुझसे पूछा...
अंकल हमारी किताबों में...
वेलेंटाइन डे पर कोई निबंध क्यों नहीं है...
मैंने कहा...
ये हमारे देश का पर्व नहीं है...
ये सुनकर उस बच्चे ने   कहा...
फिर हमारे देश में  इसे मनाते क्यों है...
 उसने फिर कहा...
हमारे देश के पर्व तो ईद व क्रिसमस भी नहीं है...
इनका वर्नण तो हमारी किताबों में बार-बार आता है...
मैंने उसे समझाने का प्रयास किया...
पाठ्यक्रम में उन्हीं पर्वों का वर्नण होता है...
जो बच्चों को  संस्कारी बनाए...
जिनके मार्गदर्शन से बच्चे...
भविष्य में उन जैसा बने...
उस बच्चे को शायद इस पर्व का महत्व भी समझ आ गया होगा...
क्योंकि उसने फिर कोई प्रश्न न किया...
कल मैं उपस्थित न हो सका था...
इस लिये मैं कल के बदले आज प्रस्तुति लेकर हाजिर हूं...


जागते ख्वाब देखे कई रात भर
  हाथ तुमने रखा है मेरे हाथ पर
  हुश्न के आसमाँ पर सितारों भरी
रात में रूप के चंद्रमा का सफर।।

रघुपति दीनी दान,विप्र विभीषण जानि कै |
मान महीपति मान,दियो दान किमि लीजियै ||
पटकूं मूंछां पाण,कै पटकूं निज तन करद |
लिख दीजै दीवाण,इन दो मंहली बात इक ||

जबकि जानते हो
मनाना भी तुम्हें ही पड़ेगा
और ये भी कि
हमारी ज़िन्दगी का दायरा
बस तुम तक
और तुम्हारा
बस मुझ तक
फिर भी अटपटा लगता है


वक़्त तेरे साथ है अभी
जीत की आदत तू डाल ले
लक्ष्य  को  खुदा  और 
कर्म  को  इबादत  बना  ले


प्रेम !
हर दिन का उजाला
हर रात की चाँदनी
हर दोपहर की तपिश
हर शाम की मदहोशी
तुम्हें एक दिन में समेट पाऊं
इतनी खुदगर्ज़ नहीं .....

मेरे हिस्से की ज़िंदगी में
बस तेरा ही किस्सा है माही!
जो पल बिताया है साथ तेरे
वो इक पल भी न तेरे बाद आया।


धन्यवाद।








6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    कुलदीप भाई
    अच्छी रचनाएँ पढ़वाई आपने
    विशेष आज की भूमिका मन को छू गई
    अपनी सरकार नहीं चाहती कि वेलेन्टाईन डे
    को स्कूलों में पढ़वाया जाए...नहीं तो
    लोग इस दिन सरकारी छुट्टी का मांग लेकर
    हड़ताल करने लगेंगे
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात
    बहुत सुन्दर लिंको का चयन
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरी रचना को शामिल करने के लिए धन्यवाद... सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...