पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 4 फ़रवरी 2017

568 ... हँसना मना है



यथायोग्य सभी को
प्रणामाशीष


बंद किताब पढ़ी जाए कैसे
परोसी थाली पेट में जाए जैसे

मेहनत लगती है


सपनोंं को सच बनाने में,
हौसला लगता है
बुलन्दियों को पाने में,
बरसोंं लगते है



तक़दीर का फंसाना



उसकी शादी एक मंदिर में हुई जिसमें
ब्रह्मा, विष्णु और महेश तीनो शामिल हुए थे।
लड़की की माँ और उसका रिक्शावाला बाप भी था।
 ख़ुशी की बात यह कि वो लड़की भी थी
जिससे उसकी शादी तय हुई थी।



देवताओं से साक्षात्कार




आओ आग और पानी के देवता से इन, उन से, सबसे
सबसे पता करते हैं कि उनको पता है कि नहीं अपनी असलियत
कि उनके अस़्त्र-शस्त्र अब हो चुके पुराने
और उनके नए रिसर्च में भी कोई चमत्कार नहीं रहा ।




जाड़े अब जा रे



   तुम उग्र रूप दिख लाने लगे,
      बड़े बूढ़ों को ठिकाने लगाने लगे।
      जमाने लगे जमीं आसमां,
      सब आजिज तुम से आने लगे।
अब बसंत के आने से,
तेवर ढीले पड़े तुम्हारे--



Rukhsat



Han bas us din he roi thi,
Par kahan jante ho k phir main kab soi hun,
Tamsha ban gayi thi main,
Bari thi hoi jag hasai bhi,
Main ik bar phir se lauti thi,
Umeed e wafa lekar teray shehr ayi thi,
Par wahan pohnchi to khabr ye suni main ne,
Tmaharay shehr walay,
Kisi or to tum se mansoob hain kar bethay,


<><>
फिर मिलेंगे .... तब तक के लिए
आखरी सलाम


विभा रानी श्रीवास्तव



6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    सादर नमन
    बेहतरीन प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति।मेरी रचना को स्थान देने के लिये बहुत आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर संकलन. पांच लिंकों का आनंद अलग-अलग धाराओं में.

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर प्रस्तुति........... आभार
    http://savanxxx.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...