पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 8 अक्तूबर 2016

449.... नवरात्र की शुभकामनायें


नवरात्र के आठवें दिन माँ सरस्वती की पूजा होती है .....

माता पर कविता के लिए चित्र परिणाम


मति
ना प्रश्न
काल परे
उर्जा ढ़ालती
भू ,माँ ,अम्बे रत्न
वात्सल्य चिरंतन
ण=निर्णय
<><><>
ले
झट
माँ-अंक
फैला नभ
भर लो दंभ
सुन कराहट
भवानी आती खट

वेद में लिपटा बाबा

दरिद्र नारायण

सर्दी आवे दुरदिन लावे,
ठण्ड कँपावे मईया।
गुदरी खोजे, फूस जोरावे,
आग-अंगीठी दुहरिया।
ओ दरिद्र नारायण भईया।

धरा की जननी कौन

ज्योतिष संबंधी विश्वासघातों से बचने के लिए आपलोग डॉक्टरों की तरह ही ज्योतिषियों को भी परखिए


काले-सफ़ेद धब्बों के अजीब से चकत्तों से भरी, 
बदसूरत और  मरियल सी वो श्वानी पिछले साल ही पैदा हुई थी, शायद कॉलेज परिसर में ही कहीं. जब से हम लोगों ने देखा तब से अनाथ ही दिखी क्योंकि माँ कभी साथ दिखी नहीं और बाप का ठिकाना होता नहीं.

आइना सच नही बोलता भाग चार


मिनी स्कर्ट से भी मिनी सोच
'विदेशी पर्यटकों को एयरपोर्ट पर एक वेलकम किट दी जाती है। इसमें एक कार्ड पर €या करें और €या न करें की जानकारी होती है। हमने बताया है कि छोटी जगहों पर रातवात में अकेले न निकलें, स्कर्ट न पहनें।'

"दूसरों से शिक्षा लें "
एक कहावत है की आगे वाला गिरे तो पीछे वाला होशियार हो जाये। जो बुद्धिमान होते हैं वे दूसरों के हालात देखकर शिक्षा ले लेते हैं।


नेट की आँख मिचौली जारी ..... नेट की गति बहुत धीमी .... समझ के बाहर लिंक कैसे सजाऊं

फिर मिलेंगे .... तब तक के लिए
आखरी सलाम

विभा रानी श्रीवास्तव 




4 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    सादर नमन
    अच्छे लिंक्स
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ दोपहर दीदी
    सुन्दर हलचल प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...