पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 10 दिसंबर 2015

खुद से पराये हो गए ..........145


सादर अभिवादन स्वीकारें
आप सभी को संजय भास्कर का नमस्कार

चलिए देखिए आज की पसंदीदा रचनाओं के सूत्र और लुत्फ उठाइए कुछ प्यार भरी रचनाओं का मेरे साथ:))


~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
अलकनंदा सिंह 


~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
तिलिस्म
अपर्णा बोस 

~*~*~*~*~**~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
प्रवीण मलिक 


~*~*~*~*~*~~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
अनीता 

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
उपासना सियाग 



इसके साथ ही मुझे इजाजत दीजिए ...... अगले गुरुवार फिर मिलेंगे 

-- संजय भास्कर 


10 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात संजय भाई
    अच्छी रचनाएँ
    दाद देती हूँ आआपकी पसंद को
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सचमुच आज के पांच लिंक आनन्द बाँट रहे हैं..बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह बहुत सुंदर प्रस्तुति संजय जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा लगा नया अंदाज हलचल प्रस्तुति का ...
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर लिंकों का संयोजन किया है...
    आदरणीय संजय भाई आपने...
    आभार आप का....

    उत्तर देंहटाएं
  6. " प्रेम रतन निजात पायो "
    आज साबित हो गया की पैसे वाला कानून भी खरीद सकता है आश्चर्य नहीं होना चाहिए यह सब पैसे का ही खेल हे की ,गुजरात.हाशिमपुरा और ना जाने कितने दंगो के अपराधी मजे से घूम रहे है इस तरह के केस का फैसला तो अदालत के बाहर ही हो जाता है अदालत में तो सिर्फ दस्तखत होते है
    वो क्या है ना पैसे में गर्मी ही इतनी होती है कि किसी का भी ईमान पिघल जाये वरना निचली अदालत सबूतों के आधार पर जिसको 5 साल की सजा सुनाती है और आज 10 महीने बाद उपरी अदालत कहती है सलमान के खिलाफ सबूत ही नहीं है ....भैय्या जनता इतनी भी बेवक़ूफ़ नहीं है .सब जानती है . ''खैर पतंग उड़ाना कभी कभी फायदेमंद भी होता है .''बस गलती मरने वाले गरीब की थी वो फुटपाथ पर सो रहे थे उसे इतना तो ध्यान रखना चाहिए था की फुटपाथ सोने की जगह नहीं होती कभी किसी अमीर की गाड़ी भी फुटपाथ से गुजर सकती है .भैय्या गलत तो गरीब होता है और हमेशा गलत ही ठहराया जाता है खेर सब छोड़ो चलो सलमान शाहरुख़ की फिल्मे आ रही है उसपे चर्चा करो यहाँ लोगों का ईमान मर चूका है

    उत्तर देंहटाएं
  7. चलो. हम देर आये दुरुस्त आये. पता नहि था कि इतना सुन्दर, रुई के फाहों सा मुलायम और कोमल संसार सज रहा है इन पाँच लिंकों ( क्षिति, जल, पावक, गगन, समीर ) में. सृजन- यज्ञ मे शामिल समस्त रचनाकारों को प्रणाम!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...