पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 6 दिसंबर 2015

141...6 दिसम्बर यानी राजनैतिक तुफान

जय मां हाटेशवरी...

1528 में मुगल सम्राट बाबर  द्वारा प्राजीन मंदिर गिराकर एक मस्जिद  का निर्माण....
6 दिसम्बर 1992 को कारसेवकों  द्वारा विवादित ढाचे को ढहाना...
या हर वर्ष 6 दिसंबर को घटित  घटनाएं या विवाद कहीं न कहीं   केवल  राजनैतिक शड़यंत्र है...
आम जनता का इससे कोई लेना-देना नहीं है...
 आम जनता तो केवल राजनैतिक  तुफान का हिस्सा बनती है...
अब देखते हैं...
आप सब  के प्यारे-प्यारे  लिंको...
से सजी आनंद की हलचल...

 
तनहा सफ़र जिंदगी का--राजीव कुमार झा
इन रस्तों से होकर ख्वाबों में गुजरे
दिखे हैं सहरा चांद हर जर्रे पर
तेरा अक्स जो नजर आ जाए
दिखे है दूजा चांद नदी के दर्पण पर
आंखें छलक जाती हैं निगाह मिलने पर
हश्र तो ये है तुमसे इस मुलाकात पर
जरा गौर फरमाईए ‘राजीव’ की बात पर
--
 थका थका सा दिन--shashi purwar
उमर निगोड़ी
नदी किनारे
जाने किन सपनों में खोई
नहीं आजकल
दिखते कागा
पाहुन का सन्देश सुनाते
--
जिंदगी प्‍यारी लगने लगी है.....--रश्मि शर्मा
 उसका मन फि‍र मचल रहा है
देख सुहाती सी धूप
रंग-बि‍रंगे फूल और
चटखती कलि‍यां
जंगली फूलों सा लड़की का मन
हरा-भरा है
हाथों में रंग भरकर घर के पीछे वाली
दीवार पर
भरी दोपहरी
चांद उगा आई है
जिंदगी
सहसा तू मुझे भी
बड़ी प्‍यारी लगने लगी है
--
बचपन कान्हां का--Asha Saxena
 कान्हां तू कितना चंचल
एक जगह रुक न पाता
सारे धर में धूम मचाता
मन चाहा  करवाता
तू मां की   आँख का तारा
 हो गया सभी  का दुलारा
मां की ममता का तू संबल
तन मन तुझ पर सबने वारा
किया पूतना वध 
 कष्टों से गोकुल को  उबारा
--
हम शबे वस्ल में सिर्फ जलते रहे--Naveen Mani Tripathi
फ़िक्र  बदनामियों   की   उन्हें  भी  रही ।
वह  नकाबों   में  घर  से  निकलते  रहे ।।
कुछ   तो   रुस्वाइयां  बर्फ   मानिंद  थीं ।
हसरतों   को   लिए  हम  पिघलते  रहे ।।




धन्यवाद।

5 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात
    हलचल में चुनी गई लिंक्स पढ़ना सरल होता है इस लिए बहुत अच्छा लगता है |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद कुलदीप जी |

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति कुलदीप जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    मुझे भी शामिल करने के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...