पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शुक्रवार, 4 दिसंबर 2015

139.....विश्व के पहले शल्य चिकित्सक - आचार्य सुश्रुत

सादर अभिवादन
मेरी दो दिन  की अनुपस्थिति
नहीं खली होगी आपको....
अब खलेगी मेरी उपस्थिति..

चलिए देखिए मेरी आज की पसंद.....














स्पंदन में....
विश्व के पहले शल्य चिकित्सक - आचार्य सुश्रुत  
।। शल्य चिकित्सा के जनक: सुश्रुत ।।
सुश्रुत प्राचीन भारत के महान चिकित्साशास्त्री एवं शल्यचिकित्सक थे। उनको शल्य चिकित्सा का जनक कहा जाता है। 


कविता मंच में....
तुमने हमेशा कहा
किसी को तुम अपने करीब नहीं आने देते
इस सब के बावजूद
तुम्हारे जीवन में मैं आयी
तुमसे बिन पूछे
जबरन तुम्हारे दिल में जगह भी बनायी.


सुधिनामा में....
उगते सूरज को सभी, झुक-झुक करें सलाम 
जीवन संध्या में हुआ, यश का भी अवसान ! 

बहती जलधारा कभी, चढ़ती नहीं पहाड़ 
एक चना अदना कहीं, नहीं फोड़ता भाड़ ! 


रूप अरूप में....
एक भूला सा स्‍पर्श फि‍र याद आएगा....
पगडंडि‍यों पर तय फ़ास्‍ले पर चलती 
दो हथेलि‍यां आपस से छू जाएंगी...
सर्द मौसम में कोई खुद में 
जरा सा और सि‍कुड़ जाएगा.....


आकांक्षा में....
दृष्टि जहां तक जाती है
तू ही  नज़र आती है
पलकें बंद करते ही
तू मन में उतर जाती है
छवि है या कोई परी
जो आँख मिचौनी खेल रही


मौलश्री में....
राह देखते नहीं थकती
बिरहन रैना
पंथ निहारते है मेरे
सिहरते नैना
दिन कि लिखावट
करते थकते

और ये है आज की अंतिम पसंदीदा रचना की कड़ी

उलूक टाईम्स में....
क्या कुछ 
कौन से शब्द 
चाहिये कुछ या 
बहुत कुछ 
व्यक्त करने के 
लिये कोई है जो 
चल रहा हो साथ में 
लेकर शब्दकोष 
शब्दों को गिनने के लिये

आज्ञा दीजिए यशोदा को...
फिर मिलते हैं....














6 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात
    आपकी अनुपस्थिति मुझे तो बहुत खलती है |आज की लिंक्स में से तीन पढ़ली हैं व २अभी बाक़ी हैं दोपहर के लिए |लिंक्स की आपकी पसंद बहुत परिष्कृत है |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर सार्थक एवं पठनीय सूत्र ! 'सुधीनामा' की 'जग की रीत' को सम्मिलित करने के लिये आपका हृदय से आभार यशोदा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ प्रभात...
    काफी दिनों बाद...
    यानी एक सपताह बाद...
    आप के चयनित लिंक पढ़ने को मिले...
    आभार आप का...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर प्रस्तुति । आभार यशोदा जी 'उलूक' के सूत्र 'क्या कुछ कौन से शब्द ....' को स्थान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अति उत्तम प्रस्तुति। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...