निवेदन।


फ़ॉलोअर

गुरुवार, 1 अप्रैल 2021

2085...किसी की याद से कितना जुड़ी हैं दीवारें

शीर्षक पंक्ति: आदरणीय दिगंबर नासवा जी की रचना से। 

सादर अभिवादन। 

गुरुवारीय अंक में आपका स्वागत है। 

 

आइए अब आपको आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर ले चलें

चले भी आओ के दिल की खुली हैं दीवारें ...दिगंबर नासवा 

यहीं पे शाल टंगी थी यहाँ पे थी फोटो

किसी की याद से कितना जुड़ी हैं दीवारें

किसी ने बीज यहाँ बो दिए हैं नफरत के

सुना है शह्र में तबसे उगी हैं दीवारें


सब नवाब हैं बाबू!...अमृता तन्मय 


अब ये मत पूछिए कि खरा कौन है

अब ये मत पूछिए कि हरा कौन है

अब ये मत पूछिए कि भरा कौन है

अब ये मत पूछिए कि मरा कौन है


उलझनें...अनुराधा चौहान 'सुधी' 


भोर की किरणें सुहानी

गा रही हैं गीत अनुपम।

ओस के इन आँसुओं से

भीग किसलय झूमते नम।

सुन हृदय की भावनाएँ

बोल क्या फिर से सुला लूँ?

दीप मन के.....

 

दोहे...अनीता सुधीर 

अमरबेल के रूप में,इच्छाओं का वास।

जीवन भर पोषण लिया,बना मनुज को दास।।

शंकर जी को प्रिय लगे,बेल धतूरा खास।

दुग्ध धार अर्पित करें,पूरी करते आस।।


प्रकृति रम्य नारी सृष्टि तू... सुरेन्द्र शुक्ल 'भ्रमर'

कभी सींचती प्राण ओज वो

बिजली दुर्गा भी बन जाती

करुणा नेह गेह लक्ष्मी हे

कितने अगणित रूप दिखाती

प्रकृति रम्य नारी सृष्टि तू

प्रेम मूर्ति पर बलि बलि जाती

 *****


आज बस यहीं तक 

फिर मिलेंगे अगले गुरूवार। 


रवीन्द्र सिंह यादव 

 

12 टिप्‍पणियां:

  1. कभी सींचती प्राण ओज वो
    बिजली दुर्गा भी बन जाती
    करुणा नेह गेह लक्ष्मी हे
    कितने अगणित रूप दिखाती
    प्रकृति रम्य नारी सृष्टि तू
    प्रेम मूर्ति पर बलि बलि जाती
    बेहतरीन..
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  2. सभी लिंक्स बेहतरीन लिए हैं ... अच्छी चर्चा ...

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति।
    मेरी रचना को मंच पर स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार आदरणीय।

    जवाब देंहटाएं
  4. आनंद दायक सूत्रों का संयोजन और प्रस्तुतिकरण के लिए हार्दिक आभार एवं शुभकामनाएँ ।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर लिंक हैं सभी .।.
    आभार मेरी ग़ज़ल को जगह देने के लिए

    जवाब देंहटाएं
  6. सुंदर शानदार लिंक्स का संयोजन तथा प्रस्तुति के लिए आपको सादर शुभकामनाएं ...

    जवाब देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर एक से बढ़ एक रचनाएं , सभी काव्य मनीषी और साहित्यकार को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं, मेरी रचना ..प्रकृति रम्य नारी सृष्टि तू .. को भी आप ने शामिल किया, हार्दिक धन्यवाद आप का मित्र

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर एक से बढ़ एक रचनाएं , सभी काव्य मनीषी और साहित्यकार को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं, मेरी रचना ..प्रकृति रम्य नारी सृष्टि तू .. को भी आप ने शामिल किया, हार्दिक धन्यवाद आप का मित्र

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...