निवेदन।


फ़ॉलोअर

शुक्रवार, 20 नवंबर 2020

1951..दो शादी करने के भी होते हैं फायदे कभी कभी छठ पूजा ने इतना तो समझाया

आज महापर्व
सूर्य षष्ठी 
कोरोना काल का 
यह उत्सव सभी को
सदा-सदा के लिए याद रहेगा
सखि श्वेेता आज अनुुपस्थित है,
 मेरी पसंद की  रचनाओं पर एक नज़र ...



उगते ढलते सूर्य का, छठपूजा त्यौहार।
कोरोना के काल में, माता हरो विकार।।
 
अपने-अपने नीड़ से, निकल पड़े नर-नार।
सरिताओं के तीर पर, उमड़ा है संसार।।





फिर, कुछ पल होंगे, बीते वो कल होंगे,
शायद, एकाकी ना पल होंगे,
रुक ही जाओगे!

या भटकोगे, अन्तर्मन के सूने से वन में, 
यातनाओं के, दारुण प्रांगण में,
कैसे रह पाओगे?




एक रानी मधुमक्खी थी। एक बार वह उड़ती हुई 
तालाब के ऊपर से जा रही थी। 
अचानक वह तालाब के पानी में गिर गई। 
उसके पंख गीले हो गए। अब वह उड़ नही सकती थी। 
उसकी मृत्यु निश्चित थी। 
तालाब के पास पेड़ पर एक कबूतर बैठा हुआ था। 




चाहे कितना भव्य क्यों न हो, सूर्योदय
का समारोह, डूबने से पहले कहीं
न कहीं उसका चेहरा उदास
होता है, सुबह और
शाम के दरमियां
बहुत कुछ
बदल
जाता है,


महान
देवता सूर्य
और उनकी
महान पत्नियाँ

ऊषा
और प्रत्यूषा
को नमन
करते हुऐ

छठ पूजा के
मौके पर
‘उलूक’
ने भी
सम्मान में
हाथ जोड़ कर
अपना सर झुकाया
.....
इति शुभम्
सादर




8 टिप्‍पणियां:

  1. सस्नेहाशीष व असीम शुभकामनाओं के संग हार्दिक आभार आपका छोटी बहना
    उम्दा प्रस्तुतीकरण हेतु साधुवाद

    जवाब देंहटाएं
  2. छठ पूजा के
    मौके पर
    ‘उलूक’
    ने भी
    सम्मान में
    हाथ जोड़ कर
    अपना सर झुकाया

    जवाब देंहटाएं
  3. सादर नमन..
    शुभकामनाएँ..
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  4. छठ पूजा की हार्दिक शुभकामनाएँ और इस बेहतरीन प्रस्तुति हेतु साधुवाद।
    शुभ प्रभात।

    जवाब देंहटाएं
  5. सुन्दर प्रस्तुति।
    छठ पूजा पर मेरी पोस्ट का लिंक देनें के लिए आभार।

    जवाब देंहटाएं
  6. आभार यशोदा जी पन्ने को जगह देने के लिये।

    जवाब देंहटाएं
  7. सभी रचनाएँ अपने आप में अद्वितीय हैं, मुग्ध करता है पांच लिंकों का आनंद, सुन्दर संकलन व प्रस्तुति, मेरी रचना शामिल करने हेतु आभार - - नमन सह।

    जवाब देंहटाएं
  8. उम्दा प्रस्तुतीकरण हेतु साधुवाद christmas

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...