निवेदन।


फ़ॉलोअर

मंगलवार, 3 नवंबर 2020

1934...अब आसान कहाँ होता है दुश्मन की नज़र में रहना...

सादर अभिवादन।

 

अब आसान कहाँ होता है 

दुश्मन की नज़र में रहना, 

हाँ, इससे आसान होता है 

ताज़ा ख़बर में बने रहना।

#रवीन्द्र_सिंह_यादव  

आइए पढ़ते हैं आज की चंद पसंदीदा रचनाएँ-

एक ऐसा गीत.... कुसुम कोठारी


जिन होठों से गीत हैं छूटे

उन पर तान सजा दू़

जिन आँखों से सपने रुठे

सपने सरस सजा दूँ।

कोई ऐसा गीत सुना दूँ

भूल जाते हो तुम..... सुधा सिंह 'व्याघ्र'

मेरी फ़ोटो

जब तक तुम्हारा चित्त

यह गवाही देने लगे

कि तुमने मेरे जीवन में मेरे

साथी के रूप में प्रवेश किया है

और तुम्हें अपने कर्तव्यों का पालन

अब शुरू कर देना चाहिए

कड़वी जिंदगी का टॉनिक !!!.... सदा


ये सुधियाँ भी

हुई बावरी देखो

चंचल मन।

किस #मोड़ पर #मिलेंगे वो... दीपक कुमार भानरे

 

मोड़ नहीं सकते कदमों को ,

छोड़ नहीं सकते सपनों को ,

जलती रहेगी आशा की लौ ,

किसी मोड़ पर मिलेंगे वो

कर दिया है तूम्हें मुक्त..... सरिता सैल

जब कभी पड़ता था

तुम्हारे माथें पर बल

और सिमट जाती थी

ललाट की सीधी सपाट रेखाएं

मैं रख देती थी धीरे से

तुम्हारे गम्भीर होंठो पर

अपनी उंगलियों को


मिसेज दीक्षित भाग-5.... अनुराधा चौहान


विनिता ने संस्कार के लिए घर में ढेर सारे खिलौने जगह-जगह रख रखे थे। संस्कार अंदर पँहुचते ही अपने खिलौनों में उलझ गया। कुमुद बहुत दिनों बाद घर में लौटी तो विनिता ने उसे दरवाजे पर रोक दिया।

 

आज बस यहीं तक 

फिर मिलेंगे आगामी गुरूवार। 

#रवीन्द्र_सिंह_यादव


8 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन चयन..
    आभार..
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति।
    मेरी रचना को मंच पर स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार आदरणीय।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति। पढ़ कर आनंद आया। सभी रचनाएँ बहुत ही सुंदर और सद्भाव जगाने वाली हैं। मिसेज़ दीक्षित जो एक पारिवारिक कहानी है, उसे पढ़ कर विशेष आनंद आया ,माँ और नानी को भी सुनाया। पारिवारिक स्नेह जीवन का बहुत ज़रूरी अंग है और इस खानी में मन-मुटाव भूल क्र अच्छे संबंध दिखाने का भाव बहुत ही अच्छा है। सुंदर प्रस्तुति के लिए आभार व आप सबों को प्रणाम।

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह बहुत ही बेहतरीन लिंक्स एवम प्रस्तुति ... बधाई सहित शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  5. रचना को ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" पर साझा करने के लिए यादव सर और उनकी टीम का बहुत आभार और धन्यवाद ।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...