निवेदन।


फ़ॉलोअर

शुक्रवार, 13 नवंबर 2020

1944 ...तड़प तड़प के रहना पड़ता, तेरा मौन पुकारे जब

शुक्रवारीय अंक में
आपसभी का स्नेहिल अभिवादन

------

आओ प्रज्वलित करें
एक दीप अंतर्मन की ड्योढ़ी पर।

देखें स्वयं का प्रतिबिंब 
रख चेहरा उजाले की ठोढ़ी पर।



शुभं करोति कल्याणम् आरोग्यं धनसंपदा
दुष्टबुद्धिविनाशाय दीपज्योतिर्नमोऽस्तुते।
-------

आइये आज की रचनाओं का आनंद लें।

दीपमाला

पावन आभा ज्योति का, फैला  पुंज प्रकाश।
नाच रहा मन मोर है, सभी दिशा उल्लास।। 
दूर हुआ जग से तमस छाया है उजियार।
जन जन में बढ़ता रहे, घनिष्ठता औ प्यार।

प्रेम गीतों में... 

तैंतीस साल पहले खो चुके प्रियतम को
उसके जन्मदिन पर
उसकी पसंदीदा कविता कुब्ला ख़ान
को पढ़ कर खिलखिला उठना
को
प्रेम का ब्रह्माण्ड ... !!


मैं ख़ुद में खो जाता हूँ

तड़प तड़प के रहना पड़ता, तेरा मौन पुकारे जब
हाय! बेबसी अपने दिल में, बस आँसू बो जाता हूँ 

बिन बोले भी प्यार तुम्हारा, दिल में गहरा यूँ उतरा
चाहत तू मेरी मंजिल बन, मैं मंजिल को जाता हूँ 



ज़िक्र जब मेरी ज़फ़ाओं का किया होगा कहीं,
ख़ुद को उस भीड़ में तन्हा ही तो पाया होगा ।
दर्द अपनी ही अना का भी सहा होगा बहुत,
फिर से जब दिल में नया बीज लगाया होगा ।





    जीवन और जगत के बहुरंगी अनुभवों , गहन अनुभूतियों और मानवीय संवेदनाओं के असीम सागर को दोहा अपनी छोटी – सी गागर में सफलतापूर्वक समाहित किये हुए है | श्रृंगार , प्रेम , भक्ति , प्रकृति , नीति , आध्यात्म , दर्शन ,जीवन के विविध संदर्भ , विसंगति , अन्याय , शोषण , भ्रष्टाचार , अपसंस्कृति और मानवीय सरोकारों से जुड़ा कोई ऐसा क्षेत्र नहीं है , जो इसकी अभिव्यक्ति के दायरे में आने से बच सका हो | यही कारण है कि अत्यन्त सरल लगने वाला दोहा लिखने के लिए भी दोहाकार में भाव – प्रवणता , संवेदनशीलता , प्रतिभा और अभिव्यक्ति कौशल का होना नितान्त आवश्यक है |
....

कल मिलिएगा विभा दी से
विशेष अंंक के साथ।

-श्वेता

11 टिप्‍पणियां:

  1. आओ प्रज्वलित करें
    एक दीप अंतर्मन की ड्योढ़ी पर।
    देखें स्वयं का प्रतिबिंब
    रख चेहरा उजाले की ठोढ़ी पर।
    -काश सम्भव हो पाता
    दीपोत्सव की हार्दिक बधाई असीम शुभकामनाओं के संग छुटकी
    सराहनीय प्रस्तुतीकरण

    जवाब देंहटाएं
  2. हार्दिक शुभकामनाएँ
    पावन आभा ज्योति का,
    फैला पुंज प्रकाश।
    नाच रहा मन मोर है,
    बेहतरीन..
    तेरस/चौदस की शुभकामनाएं
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  3. व्वाहहहहहह
    बेहतरीन चयन
    अनन्त शुभकामनाएं..
    सादर.

    जवाब देंहटाएं
  4. मैं ख़ुद में खो जाता हूँ http://www12.widgetserver.com/ पर रीडाईरेक्ट कर रहा है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ सर,
      ठीक कर रही हूँ।

      प्रणाम सर।
      सादर।

      हटाएं
    2. आपसे ठीक नहीं हो पायेगा। चिट्ठाकार को अपने स्तर से ठीक करना पड़ेगा। किसी एड रिमूवर सोफ़्टवेयर के सहारे।

      हटाएं
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति
    धनतेरस और दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत ही प्यारी भूमिका के साथ एक अत्यंत सुंदर प्रस्तुति।
    सभी रचनाओं को पढ़ कर दीपोत्स्व का प्रकाश और आनंद मन में फ़ैल जाता है।
    प्रेरणादायक और शुभ प्रस्तुति के लिए हार्दिक आभार व आप सबों को प्रणाम।

    जवाब देंहटाएं
  7. दिल को छुती पंक्तियों के साथ बेहतरीन रचनाओं का चयन प्रिय श्वेता जी, कुछ व्यस्तता के कारण ब्लोग पर आना कम हो गया है,
    आप सभी को दिपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं एवं सादर नमस्कार

    जवाब देंहटाएं
  8. एक अत्यंत सुंदर प्रस्तुति। whatsapp status

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...