निवेदन।


फ़ॉलोअर

शनिवार, 2 जून 2018

1051... हाय रे गर्मी



Image result for गर्मी पर छोटी कविता

सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

दो जून की मगजमारी
उपजा मगरूर तामस 
बंजर भावों पर मलने


खेतों में मजूरी से भरे पूरे परिवार का
पूरा नहीं पड़े है ज़माना महँगी मार का
इसलिए छोड़ के बसेरा चले जाते हैं
भूमिहीन उठा डाँडी-डेरा चले जाते हैं
चुग्गे हेतु जैसे खग नीड़ छोड़ जाते हैं

Image result for गर्मी पर छोटी कविता


होड़ मच गयी
हर कोई अपने सुख के लिए
अपना काँटा निकालने के लिए खङा था
उनकी पर्ची पर किसी न किसी का नाम था
क्या दोस्त,क्या भाई
ससुर हो या जमाई

Image result for गर्मी पर हास्य कविता

सुबह में उठना, ब्रश ना करना, बस शुरू कर देना वीडियो गेम
साथ में गिलास हो गरम दूध का, और ब्रेड हो जिस पर लगा हो जैम
बस फिर कोई ना रोके, कोई ना टोके, हम आभासी वीरों को
दुनिया को हमें बचाना है, झुलसा के दुश्मन के जज़ीरों को…
पर ऐन-वक़्त पे बिजली के जाने से गुस्सा आता है
और दुसरे ही पल में हमको एक जोश नया मिल जाता है



ये आंच ये ताप कब होगा समाप्त
झुलसती ये गरमी बरस रही है आग
धूप के कहर ने तो ले ली कई जानें
निकलना हुआ मुश्किल सोचें है कई बहाने




कूलर ए.सी. के फेर मेँ खाता बचा ना कोय ।।
बाट ना देखिए ए.सी. की चला लीजिए फैन
चार दिनोँ की बात है फिर आगे सब चैन ।।
पँखा झेलत रात गयी आयी ना लेकिन लाईट
मच्छर गाते रहे कान मेँ तक तना तंदूरी नाईट


फिर मिलेंगे...
हम-क़दम 
सभी के लिए एक खुला मंच
आपका हम-क़दम इक्कीसवें क़दम की ओर
इस सप्ताह का विषय है
दो पंक्तियाँ है
यानी एक दोहा है

अँधा बेचे आईना, विधवा करे श्रृंगार
कथा कहे बहुरूपिया, ढोंगी पढ़े लिलार.

और इसका कोई उदाहरण मौजूद नही है
रेखांकित शब्द ही विषय है
उपरोक्त विषयों पर आप सबको अपने ढंग से 
पूरी कविता लिखने की आज़ादी है

आप अपनी रचना आज शनिवार 02 जून 2018 
शाम 5 बजे तक भेज सकते हैं।
चुनी गयी श्रेष्ठ रचनाऐं आगामी सोमवारीय अंक
04 जून 2018  को प्रकाशित की जाएगी । 
रचनाएँ  पाँच लिंकों का आनन्द ब्लॉग के 
सम्पर्क प्रारूप द्वारा प्रेषित करें

9 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय दीदी
    सादर नमन
    गर्मी का अंत अब हो रहा है
    नौतपा कल खत्म हुआ
    सटीक रचनाए चुनी आपने आज
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  2. आदरणीय दीदी....
    सादर चरणस्पर्श..

    जवाब देंहटाएं
  3. सादर नमन दीदी, गर्मी अपने अन्तिम सौपान पर है मानसून की आहट सुनाई देने लगी बस ईश्वर कृपा रहे और सन्तुलित पानी बरसे तो सभी के जीवन मे खुशियों के आगाज हो विशेष कर किसानों पर। बहुत सुंदर प्रस्तुति,
    सभी रचनाऐं कुछ हट के, सभी रचनाकारों को बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति।सभी रचनाएँ शानदार हैं।

    जवाब देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  6. आदरणीय विभा दी --- सादर प्रणाम | गर्मी पर लाजवाब प्रस्तुतिकरण !!!!!!! सभी रचनाएँ पढ़कर बहुत अच्छा लगा | गर्मी की छुट्टियाँ भी आ गई , गर्मी के दोहे भी आये , बादल को पुकारती सुंदर रचना भी आई पर बंजारा नामक लाकर भावुक कर गया | इस पोस्ट तक ले जाने के लिए आपका जितना आभार कहूं कम है | इस पुस्तक की कवितायेँ मन में गाँव के बड़े मार्मिक चित्र सजीव कर गई |गर्मी की लम्बी अवधि बहुत परेशान करती है पर जब बीच में पहली बौछार माटी की गंध को आसमान तक ले जाती है उसका आनंद शब्दों से परे है | सभी रचनाओं पर भरपूर शोध के लिए आपका सादर आभार | सादर --

    जवाब देंहटाएं
  7. हाय गर्मी हाय गर्मी
    बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  8. हमेशा.की तरह आपकी विशेष प्रस्तुति बहुत अच्छछी लगी दी।
    एक सुंदर अंक पढ़वाने आभार आपका :)

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...