निवेदन।


फ़ॉलोअर

शुक्रवार, 29 सितंबर 2017

805....कितने आसमान, किसके आसमान

सादर अभिवादन
माह सितम्बर का सूर्य
अस्ताचल की ओर...
.....
संगम दो उत्सवों का कल
देवी विसर्जन व दशहरा
एक साथ..
......
एक बार फिर कुआंरी पूजन
औेर कन्या भोजन..
.......
आज है मेरी पसंद...
खड़ी-पड़ी आकृतियाँ
इंसानी सी शक्लों की
झोंकें हैं अपने को
अपनी अपनी लय में,
भर भर आँखों से
कराने को निर्जीव देह
का अग्नि स्नान चिता पर

हर युग में परीक्षा मेरे अस्तित्व की है
सीता मैं राम की,अग्नि स्नान किया
द्रौपदी मैं,बँटी वस्तु सम पाँच पुरुष में 
मैं सावित्री यम से ले आयी पति प्राण,


ज़िन्दगी की किताब के पन्ने.. लोकेश नदीश
गूंजने लगी हैं कान में 
वो तमाम बातें 
जो कभी हमने की ही नहीं 
नज़र आई कुछ तस्वीरें 
जो वक़्त ने खींच ली होगी 

कलियों का मुस्कुराना....अज्ञात
आज़ादियाँ कहाँ वो, अब अपने घोसले की;
अपनी ख़ुशी से आना अपनी ख़ुशी से जाना;

लगती हो चोट दिल पर, आता है याद जिस दम;

शबनम के आँसुओं पर कलियों का मुस्कुराना;



किंकर्तव्यविमूढ....पुरुषोत्तम सिन्हा
रच लेता हूँ मन ही मन इक छोटा सा संसार,
समय की बहती धारा में मन को बस देता हूँ उतार,
सरसराहट होती, नैया जब बहती बीच धार,
निरुत्तर भावों से मैं फिर देखता, समय का विस्तार!

बदल गये हो......अमित जैन 'मौलिक'
डबडबाती कोरों 
से भी देखा,
दिखते तो हो तुम!
पर वैसे नही 
जैसे दिखते थे
संभवतः तुम 
बदल गये हो
हाँ!! तुम 
बदल गये हो।



उलूक का पन्ना....डॉ. सुशील जोशी
टुकड़ा टुकड़ा 
फटने के लिये 
चाहते हुऐ भी 
बट जाना 
हर किसी 
की सोच के 
अनुसार 
उसके लिये । 

आज्ञा दें यशोदा को







10 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात दी:)
    आज कन्यापूजन।
    महानवमी तिथि।
    सुंदर लिंकों का संयोजन दी।
    सभी चयन साथी रचनाकारों को हार्दिक बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  2. सुंदर लिंकों का संयोजन!!!.....नमस्तस्यै, नमस्तस्यै ,नमो नमः!

    जवाब देंहटाएं
  3. सुप्रभात। महानवमी की शुभकामनाएं। सुंदर है 805 वा अंक। सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएं। आभार सादर।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत खूबसूरत संकलन
    सभी रचनाकारों को बधाई
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए हार्दिक आभार

    जवाब देंहटाएं
  5. सभी रचनायें अप्रतिम। सबरंगी अंक। मेरी रचना को स्थान देने के अतुल्य आभार। सभी रचनाकारों को बधाइयाँ।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति यशोदा जी। आभार 'उलूक' के पन्ने को भी जगह देने के लिये।

    जवाब देंहटाएं
  7. सुन्दर पठनीय लिंक संयोजन बेहतरीन प्रस्तुति करण....

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति ..

    जवाब देंहटाएं
  9. सुंदर लिकों का चयन..
    बेहतरीन प्रस्तुति
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...