पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

रविवार, 2 जुलाई 2017

716.....बुरा हैड अच्छा टेल अच्छा हैड बुरा टेल अपने अपने सिक्कों के अपने अपने खेल

सादर अभिवादन...
आप सभी को बीते हुए ब्लॉगर्स डे की शुभ कामनाएँ
सर फिर गया  है देवी जी का...
नियत दिन पर नियत काम करती ही नहीँ
पर जो भी करती है..सही ही करती है..(??)
चलिए चलते हैं आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर...



हम सब जुनैद हैं.... वन्दना गुप्ता
नही रही चाह किसी खोजी तत्व की 
एक गूंगा मौसम फहरा रहा है 
अपना लम्पट आँचल 
और मैं हूँ गिरफ्त में 

जीने की चाह न बचना 
आखिर है क्या ? 
मौत ही तो है ये भी 
साँस लेना जिंदा होने का सबूत नहीं

हुई गर्व से उन्मत इतनी,
पास बने कुएं से उलझी.......
बोली कुआं ! देखो तो मुझको,
देखो ! मेरी गहराई चौड़ाई ,
तुम तो ठहरे सिर्फ कूप ही ,
मैं नदी कितनी भर आयी !....

उन्हें बस नफरत है,
कुछ नामों से,
कुछ चेहरों से,
कुछ लिबासों से,

हरे थे जब पात
अपनों का था साथ
गूँजते थे स्वर 
टहनियों पर बने घोंसलों से।

बचपन का ज़माना बहुत याद आता है
लौटके न आये वो पल आँखों नहीं जाता है

न दुनिया की फिक्र न ग़म का कहीं जिक्र
यादों में अल्हड़ नादानी रह रहके सताता है

सुकून अगर मिल सकता बाज़ार में तो कितना अच्छा होता ... दो किलो ले आता तुम्हारे लिए भी ... काश की पेड़ों पे लगा होता सुकून ... पत्थर मारते भर लेते जेब ... क्या है किसी के पास या सबको है तलाश इसकी ...

शरम का 
लिहाज 
करने वाले 
कभी कभी 
बमुश्किल 
निकल कर 
आते हैं खुले में ‘उलूक’ 
सौ सुनारी 
गलत बातों पर 
अपनी अच्छी 
सोच की 
लुहारी चोट 
मारने के लिये।










12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर विविधतापूर्ण लिंकों का चयन,सुंदर लिंकों का संयोजन, मेरी रचना को मान देने के लिए आभार शुक्रिया
    आपका आदरणीय।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति पाँच सूत्रों में । आभार 'उलूक' के सूत्र को शीर्षक पर जगह देने के लिये दिग्विजय जी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. हिन्दी ब्लॉगिंग में आपका लेखन अपने चिन्ह छोड़ने में कामयाब है , आप लिख रहे हैं क्योंकि आपके पास भावनाएं और मजबूत अभिव्यक्ति है , इस आत्म अभिव्यक्ति से जो संतुष्टि मिलेगी वह सैकड़ों तालियों से अधिक होगी !
    मानते हैं न ?
    मंगलकामनाएं आपको !
    #हिन्दी_ब्लॉगिंग

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर लिंक संयोजन.....
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए हार्दिक आभार एवं धन्यवाद ,आदरणीय...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर लिंक्स संजोये हैं यशोदा .......आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर प्रस्तुति। आज के माहौल पर कवितायें अच्छी लगीं.

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह...लाज़वाब प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  8. आज एक से बढ़कर एक गंभीर और विचारणीय रचनाओं का संकलन पेश किया है आदरणीय दिगंबर जी ने। अन्तर्राष्ट्रीय हिंदी ब्लॉगर दिवस कल की बजाय आज हमने शिद्दत से मनाया। आभार सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  9. खूबसूरत लिंक संयोजन । बहुत खूब ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. दमदार लिंक्स हैं ...
    आभार मुझे शामिल करने के लिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ख़ूबसूरत लिंक्स...आभार

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...